DA (Domain Authority) क्या है? in Hindi | How to Increase Domain Authority?

  • Post author:
  • Post last modified:September 25, 2021

Domain Authority क्या है?

DA (Domain Authority) SEO की दुनिया का सलमान खान है। सबको पता है कि भाई की पिक्चर में कोई स्टोरी नाम का चिड़िया नहीं होती। लेकिन फिर भी भाई की पिक्चर लोग देखते ही देखते हैं। DA ( Domain Authority) का भी वैसा ही है।

DA (Domain Authority) कौन सी कंपनी का Tool है?

DA (Domain Authority) MOZ नाम की एक कंपनी का इजाद किया हुआ एक Metric है। जो आपको बता सकता है कि किसी भी SEO गुरु या SEO ट्रेनर को कितना SEO आता है। अगर कोई भी ट्रेनर / टीचर / गुरु / एक्सपर्ट मास्टर / मासूम आपको कहे हमारे पास DA कोर्स है। समझ जाइए कि उन्हें खुद को अभी थोड़ा और सीखने की जरूरत है। DA का किसी वेबसाइट की रैंक से कोई लेना देना नहीं होता है। इसका रीजन है कि गूगल किसी एक वेबसाइट को रैंक नहीं करता है, बल्कि गूगल सिर्फ Pages को रैंक करता है।

जरा ध्यान दीजिए की गूगल एक पेज रैंक Algorithm है Domain रैंक Algorithm नहीं है। गूगल अलग-अलग Pages को इंडेक्स करता है उन्हें रैंक करता है। गूगल पूरे Domain को रैंक नहीं करता है वो सिर्फ Pages को ही रैंक करता है। अभी कुछ दिन पहले तक सर्च कंसोल में Naked Domain को Add करने का कोई ऑप्शन भी नहीं होता था। आपको https, www और न जाने क्या-क्या लगाकर प्रॉपर्टीज को Add करना पड़ता था। 

DA (Domain Authority) को कैसे बढ़ाते है?

सबसे पहले ये बता दे कि DA को बढ़ाने का कोई फायदा नहीं है। कोई एक स्कोर पूरे डोमिन को रैंक करने का दावा करता है तो वो काम नहीं करेगा। DA useless होने का सबसे बड़ा प्रूफ यह है कि इसे बड़ी आसानी से बढ़ाया जा सकता है। आपको 4 से 5 हजार में किसी वेबसाइट के DA को बढ़ने वाले कई सारे लोग मिल जाएंगे।

1 Trillion Dollars वाली कंपनी के रैंकिंग फार्मूला को कोई क्रैक कर लेगा और 4 से 5 हजार में बेचेगा, आपको लगता है ये मुमकिन है? वो थोड़ी देर के लिए गूगल को बेवकूफ बना सकते है अगर पूरी प्लानिंग के साथ काम करे। लेकिन बादमें उन्हें पछताने का मौका भी गूगल नहीं देगा।

कई बार मैसेज में कुछ लोग पूछते हैं कि Fiber वाले किसी भी वेबसाइट के DA को कैसे बढ़ा देते हैं? बहुत आसान तरीका है कोई भी पोस्ट कमेंट करने वाला Tool लीजिए और उसके जरिए अपनी वेबसाइट के लिए ऑटोमेटिक बैकलिंक बनाइए आपका DA स्कोर तुरंत बढ़ जायेगा।

प्रोफाइल वाली बैकलिंक, कमैंट्स वाली बैकलिंक किसी भी तरह की बैकलिंक हो कोई फर्क नहीं पड़ता है। आपका DA स्कोर बढ़ेगा क्योकि MOZ के पास इतनी Capability नहीं है की वो बैकलिंक की Quality को Analyse कर सके। उसका ये काम भी नहीं है उसको सिर्फ बैकलिंक का नंबर देखना होता है और DA स्कोर को बढ़ा देना होता है। 

कमेंट वाली बैकलिंक एकदम बेकार होती है। गूगल इस तरह की बैकलिंक को कोई वैल्यू नहीं देता है। बेस्ट केस सिनेरियो में Google उन्हें इग्नोर कर देगा। वर्स्ट केस सिनेरियो में आपकी वेबसाइट को पेनल्टी देगा।

अब आपको ये सोचना है कि आप गूगल के लिए SEO करना चाहते हैं या MOZ के लिए। आपको ट्रैफिक गूगल से मिलेगा या MOZ से?

क्या DA गूगल का प्रोडक्ट है?

गूगल employees ने सैकड़ों बार कहा है कि वह DA या इस तरह के किसी भी स्कोर को वो कोई वैल्यू नहीं देते हैं। लेकिन फिर भी लगभग 80% से 90% कोर्सेस और वीडियो में DA की माला जपने वाले लोग आपको मिल जाएंगे। इन लोगो की देखा देखी में नए लोग भी DA के चक्कर में फ़स जाते है। आखिर DA को इतना Importance मिलता क्यों है? इसके कई रीज़न है, 

MOZ क्या है?

1. MOZ ने DA शब्द या टॉपिक को काफी ज्यादा पॉपुलर बनाया है। कई सारे लोग भूल जाते है की MOZ गूगल नहीं है या गूगल का नहीं है। MOZ एक SEO Tools और Services प्रोवाइड करने वाली कंपनी है। जो बाकि SEO कंपनियों की तरह अपना बिज़नेस बढ़ाना चाहती है। लेकिन अगर किसी एक कंपनी का बनाया डाटा या Metric पूरी दुनिया के SEO Executive एक standerd की तरह समझने लगते है इस्तेमाल करते है। MOZ के नजरिये से ये एकदम बढ़िया चीज है पैसे भी मिलते है और नाम भी।

MOZ ने काफी चीजे इस्तेमाल कि है इस DA को पॉपुलर करने के लिए। जिसका एक Example आप निचे दिए गए एक इमेज में देख सकते है। जिसमे साफ़ लिखा हुवा है की “Domain Authority is not a metric used by Google in determining Search Ranking of a Website and has no effect on the SERPs”.

ये आर्टिकल MOZ के ऑफिसियल पेज का है जिसमे MOZ ने एक पूरी लाइन को बोल्ड किया हुवा है सिर्फ “NOT” को छोड़ के (आप इसे click here पर क्लिक कर चेक कर सकते है)। अगर Not शब्द को हटा दिया जाए तो पूरी लाइन का मतलब ही उल्टा हो जाता है। MOZ एक पुरानी SEO कंपनी है जिसने अपनी प्रजेंस का पूरा फायदा उठाया इस DA मैट्रिक को फेमस करने में। 

Click here…

DA (Domain Authority) क्या है? in Hindi

2. Google सर्च इंजन रैंकिंग का कोई स्कोर नहीं देता है। कोई ऐसा Metric है नहीं जो आपको बता सके की कोई वेबसाइट के रैंक होने के कितने चान्सेस है। DA को दूल्हे की घोड़ी मान लीजिए और MOZ को घोड़ी का मालिक।

दूल्हा अधिकतर घोड़ी पर बैठकर शादी करने जाता है और घोड़ी का मालिक सबको बताता घूमता है की मेरी घोड़ी की वजह से शादी हो रही है। लेकिन दूल्हा अगर घोड़ी से उतरकर शादी करने चला जाए तो भी शादी हो ही जाएगी ना। हमेशा याद रखे Correlation Is Not Causation. 

क्या DA स्कोर को बढ़ाना जरूरी होता है?

अगर आप ध्यान से देखे तो DA (Domain Authority) एक बेकार चीज है। एक मिनिट के लिए DA को भूल जाइए, शायद आपको पता होगा की बैकलिंक की वैल्यू उसकी पोजीशन पर डिपेंड करती है। किसी पेज में जो सबसे ऊपर का लिंक है उसकी वैल्यू सबसे ज्यादा होगी और फुटर में पड़ी हुई कोई भी बैकलिंक आपको सबसे कम फायदा देती है।

ऐसा इसलिये होता है क्यों की गूगल bot इंसान की नकल करता है और आपके वेबसाइट को विजिट करता है। ऐसे में अगर कोई नॉर्मल विज़िटर आपके वेबसाइट पर आता है तो वो बॉटम में जाएगा ही इसके चान्सेस काफी कम होते है। इस सिस्टम को Reasonable Surfer Model कहा जाता है। यह Reasonable Surfer Model गूगल का अपना सिस्टम है और MOZ इसे इस्तेमाल नहीं कर सकता है। 

गूगल काफी एडवांस हो चूका है, अब वो सिर्फ बैकलिंक के नंबर को वैल्यू नहीं देता। बैकलिंक को वैल्यू देने के लिए गूगल काफी Parameters को चेक करता है। जैसे किसी वेबसाइट पर अगर आपने बैकलिंक बनाई है तो क्या वो आपके वेबसाइट में मैच करती है।

अगर आपकी वेबसाइट होटल की है और आपने जहां बैकलिंक बनाई है वो वेबसाइट कोई कंप्यूटर की है। तो गूगल वहां बनाई गई बैकलिंक को Quality बैकलिंक नहीं मानेगा। जहां गूगल बैकलिंक की Quality को चेक करता है और फिर वेबसाइट को रैंक करता है। वहीं MOZ सिर्फ बैकलिंक के नंबर को चेक करता है DA स्कोर को बढ़ाने में। 

Example के लिए कोई कबाड़ी है जिसके पास आप किताबें लेकर गए हो बेचने के लिए। अब वो कबाड़ी उन किताबों का दाम किताबों के अंदर लिखे हुए इन्फॉर्मेशन पर नहीं लगाएगा बल्कि उन किताबों के वजन पर लगाएगा।

वैसे ही MOZ बैकलिंक की Quality नहीं देखता सिर्फ उनका नंबर देखता है। MOZ एक मार्केटिंग कंपनी है जो अपने प्रोडक्ट्स को प्रोमोट कर उनकी वैल्यू को बढ़ा रही है। उसे इस्तेमाल करने वालो को नुकसान हो या फायदा उससे उसे कोई मतलब नहीं है। उसे तो बस अपना बिज़नेस बढ़ाना है और पैसा कामना है। 

गलती MOZ की नहीं है वो तो अपना प्रोडक्ट बेच रहा है। गलती उन लोगो की है जिन्होंने DA स्कोर को रैंकिंग सिग्नल के साथ जोड़ दिया है। अच्छी बैकलिंक को बढ़ाना आसान काम नहीं है उसमे काफी मेहनत और पैसा लगता है। इसलिए लोग कमेंट बैकलिंक, प्रोफाइल बैकलिंक की तरफ जाते है। जिसका जुर्माना उन्हें आगे भुगतना पड़ता है। ऐसी बैकलिंक की वजह से उनको ट्रैफिक नहीं मिलता और स्पैमी बैकलिंक की वजह से कई वेबसाइट गूगल रैंक से बाहर चली जाती है।

Conclusion:

Conclusion कहता है की, DA का रैंकिंग सिग्नल से कोई लेना देना नहीं है। DA की Importance नहीं है। आप DA को इस्तेमाल कर सकते है लेकिन किसी बेकार की चीज को बढ़ाने में Resources खर्च करना ग़लत है। जो चीज Important नहीं है ऐसी चीजों को बढ़ाने से सिर्फ टाइम और पैसे की बर्बादी होगी और कुछ नहीं। 

Enjoyed the post! Leave a Reply...

This Post Has 2 Comments

  1. Mohd Aatif

    ThankYou 🙂 Sir For share Valuable Content