12th Commerce Ke Baad Kya Kare? Top Courses After Commerce

  • Post author:
  • Post last modified:September 16, 2021

आज हम बात करेंगे कॉमर्स के बारे में, जिसके बारे में अपने बहुत सुना है और हो सकता है आपके पास कॉमर्स सब्जेक्ट भी हो। कहने का मतलब यह है कि 12th क्लास स्टूडेंट के लिए जो मोस्ट पॉपुलर स्ट्रीम्स है उनमे कॉमर्स भी एक है। ऐसे स्टूडेंट्स जिन्हे इस फील्ड में आगे अपना करियर बनाना हो उनके लिए वाकई एक कंपलीट कोर्स है। 

लेकिन सवाल ये है की क्लास 12th कॉमर्स स्ट्रीम से क्लियर कर ली लेकिन अब आगे क्या? आगे किस डायरेक्शन में आगे बढ़ना राइट डिसीजन होगा और किस फील्ड में सबसे ज्यादा स्कोप मिल सकता है। ऐसे बहुत सारे सवाल जो एक कॉमर्स स्टूडेंट के दिमाग में चलते रहते हैं उनके जवाब ढूंढने में हेल्प करने के लिए हमने आज का ये आर्टिकल बनाया है। जिसमे आपको 12th कॉमर्स के बाद किए जाने वाले पॉपुलर कोर्सेस और ऑप्शन के बारे में पता चलेगा। 

कॉमर्स स्टूडेंट के लिए क्लास 12th के बाद मिलने वाले बेस्ट कोर्स ऑप्शन के बारे में जान लेते हैं

12th Commerce के बाद कौनसा कोर्स करे?

Bachelor of Commerce (B.Com)

ये 3 साल का जनरल डिग्री प्रोग्राम होता है, इसे फुल टाइम कोर्स और कॉरेस्पोंडेंस कोर्स की तरह किया जा सकता है। इसे बीकॉम पासकोर्स भी कहा जाता है इसीलिए इस से कंफ्यूज ना हो। इस कोर्स में कॉमर्स और फाइनेंस रिलेटेड कोर सब्जेक्ट के स्टडी शामिल होती है।

आपको बता दें कि कॉमर्स के कोर सब्जेक्ट फाइनेंस, अकाउंटिंग, ऑडिटिंग, टैक्सेशन, लॉ, इन्वेस्टिंग, मैनेजमेंट, इंश्योरेंस, इन्वेस्टमेंट बैंकिंग, जनरल बैंकिंग और कंसलटिंग होते हैं। ये कोर्स ऐसे स्टूडेंट्स के लिए बेस्ट ऑप्शन होते है। जो अपना करियर कॉमर्स, अकाउंटिंग, फाइनेंस, बैंकिंग और इंश्योरेंस फील्ड बनाना चाहते है। 

जो स्टूडेंट चार्टर्ड अकाउंटेंसी, कॉस्ट अकाउंटेंसी और कंपनी सेक्रेटरीशिप करना चाहते हो उनके लिए भी ये कोर्स बहुत अच्छी चॉइस है। बीकॉम जनरल कंप्लीट करने के बाद आप मैनेजमेंट, टीचिंग, एडवरटाइजिंग, लॉ, जर्नलिज्म, मास कम्युनिकेशन और डिज़ाइन जैसे बहुत सारे करियर ऑप्शंस को चुन सकते हैं। एक बीकॉम ग्रैजुएट को मिलने वाली स्टार्टिंग सैलेरी ₹300,000 पर एनम हो सकती है। 

Bachelor of Commerce (Honours)

बीकॉम ऑनर्स कॉमर्स स्ट्रीम स्टूडेंट के बीच में बहुत ही फेमस अंडर ग्रैजुएट डिग्री प्रोग्राम्स में से एक है। बीकॉम ऑनर्स ग्रेजुएट की अकॉउंटिंग, ऑडिटिंग, बैंक और इंश्योरेंस कंपनीज में बहुत ही ज्यादा हाई डिमांड होती है। ऐसे कैंडिडेट को फाइनेंस, अकाउंटिंग, एचआर और एडमिनिस्ट्रेटिव डिपार्टमेंट में जूनियर लेवल पर हायर किया जाता है। इस कोर्स को करने के बाद आप मैनेजमेंट, टीचिंग, एडवरटाइजिंग, जर्नलिज्म, लॉ, डिजाइन फील्ड में करियर बना सकते हैं। सीए और सीएस करने वाले स्टूडेंट के लिए भी ये कोर्स आइडियल चॉइस होता है। बीकॉम ऑनर्स ग्रेजुएट को मिलने वाला स्टार्टिंग सैलेरी पैकेज ₹300,000 पर एनम से शुरू होता है।

Bachelor In Computer Application (BCA)

ऐसे स्टूडेंट्स जो कंप्यूटर लैंग्वेज वर्ल्ड में शामिल होना चाहते हैं उनके लिए BCA एक बहुत ही अच्छा कोर्स है। ये 3 साल का अंडर ग्रैजुएट डिग्री प्रोग्राम है। जो इनफॉरमेशन टेक्नोलॉजी में करियर शुरू करने के लिए मोस्ट पॉपुलर ऑप्शंस में से एक है। क्योकि आईटी इंडस्ट्री में BCA कैंडिडेट की काफी डिमांड होती है।

इस कोर्स में एडमिशन के लिए आपके पास 12th क्लास में इंग्लिश और मैथमेटिक्स कंपलसरी सब्जेक्ट होने जरूरी है। इस कोर्स को करने के बाद आपको प्राइवेट और पब्लिक सेक्टर में बहुत ही जॉब अपॉर्चुनिटी मिल सकेगी। BCA ग्रेजुएट सिस्टम इंजीनियर, सॉफ्टवेयर इंजीनियर, सॉफ्टवेयर टेस्टर, वेब डेवलपर और जूनियर प्रोग्रामर जैसी पोजीशन पर काम कर सकते है।  एक BCA ग्रेजुएट को मिलने वाले एवरेज सैलेरी 3 से 5 लाख पर एनम तक हो सकती है।

Bachelor in Economics

कॉमर्स स्टूडेंट बी.ए इकोनॉमिक्स और बीएससी इकोनॉमिक्स ऑनर्स में से कोई भी कोर्स कर सकते हैं। ये 3 साल के अंडरग्रैजुएट डिग्री कोर्सेज है जिन्हे आर्ट्स, साइंस और कॉमर्स स्टूडेंट कर सकते हैं। इन दोनों कोर्स में काफी कुछ सिमिलर होता है और इनके बीच मेजर डिफरेंस यह है कि बीएससी करने पर आपको मैथमेटिक्स और स्टैटिसटिक्स की एडवांस लेवल पर नॉलेज मिलेगी।

जबकि बीए में प्रैक्टिकल लेसंस शामिल नहीं होते हैं और ये ज्यादा थेओरिटिकल होते हैं। इन दोनों कोर्स की फीस और सैलरी पैकेज में भी थोड़ा बहुत अंतर मिलता है। इकोनॉमिक्स में बैचलर डिग्री लेने के बाद आप गवर्नमेंट बैंक, सिविल सर्विसेज, फाइनेंस इंस्टीट्यूट, बिज़नेस फर्म्स, मैन्युफैक्चरिंग फर्म्स और स्टॉक एक्सचेंज में काम कर सकते हैं। बैचलर इन इकोनॉमिक्स करने के बाद कैंडिडेट को मिलने वाला एवरेज सैलेरी पैकेज 3 से 4 लाख पर एनम तक हो सकता है। 

Bachelor of Business Administration (BBA)

कॉमर्स के ऐसे स्टूडेंट्स जो कॉमर्स बिजनेस और एडमिनिस्ट्रेशन फील्ड में थेओरिटिकल और प्रैक्टिकल नॉलेज लेना चाहते हैं वो BBA कर सकते हैं। ये 3 साल का अंडर ग्रेजुएट कोर्स है जिसे करने के बाद आप कॉर्पोरेट फर्म्स और इंडस्ट्रियल ऑर्गेनाइजेशन में जॉब अपॉर्चुनिटी पा सकते हैं। मार्केटिंग, फाइनेंसियल, सेल्स में अप्लाई भी कर सकते हैं। BBA ग्रेजुएट को मिलने वाला स्टार्टिंग सैलेरी पैकेज ₹300,000 पर एनम हो सकता है, जो एमबीए करने और experience गेन करने के बाद ₹400,000 से ₹500,000 लाख पर एनम तक इनक्रीस हो सकता है। 

Bachelor of Management Studies (BMS)

ये 3 साल का अंडर ग्रैजुएट कोर्स है। ये आपको मैनेजमेंट फील्ड के लिए तैयार करेगा ताकि आप बिज़नेस वर्ल्ड में अपके लिए ग्रेट लीडरशिप क्रिएट कर सके। ये कोर्स ह्यूमन रिसोर्स, मैनेजमेंट, इकोनॉमिक्स और बिजनेस स्टडीज की डीप नॉलेज प्रोवाइड कराता है।

एक BMS ग्रेजुएट अकेडमी इंस्टीट्यूशंस, मार्केटिंग एंड सेल्स, फाइनेंस एंड रिटेल और कंसलटिंग जैसी फील्ड में जॉब कर सकता है। BMS ग्रेजुएट को मिलने वाला एवरेज स्टार्टिंग सैलेरी पैकेज 3 से 4 लाख पर एनम हो सकता है। 

Bachelor of Commerce and Bachelor of Legislative Law (BCom LLB)

कॉमर्स के ऐसे स्टूडेंट्स जिन्हे लॉ में इंटरेस्ट है वो एलएलबी कर सकते हैं। वैसे आप 3 साल का एलएलबी कोर्स ग्रेजुएशन के बाद ही कर सकते हैं। लेकिन 12th क्लास के बाद आप इंटीग्रेटेड LLB प्रोग्राम में एडमिशन ले सकते हैं। जिसके लिए आपको एंट्रेंस एग्जाम क्लियर करना होगा।

ये एक प्रोफेशनल लॉ प्रोग्राम है जिसकी duration 5 साल होती है और इस कोर्स में स्टूडेंट्स को कॉमर्स और लॉ सब्जेक्ट पढ़ाए जाते हैं। इस कोर्स को करने के बाद आप लॉयर, लीगल एडवाइजर, एडवोकेट, लेक्चरर जैसी जॉब प्रोफाइल के लिए तैयार हो जाएंगे। एक B.Com LLB ग्रेजुएट मिलने वाला सैलरी पैकेज जॉब पोजीशन पर निर्भर करेगा जो 2 लाख पर एनम भी हो सकता है और 4 लाख पर एनम भी। 

वैसे कॉमर्स स्ट्रीम के पॉपुलर कोर्सेज के बाद अब अगर प्रोफेशनल कोर्स के बारे में हम जाने तो 12th कॉमर्स स्ट्रीम से क्लियर करने के बाद आप इन सारे प्रोफेशनल कोर्सेज में से बेस्ट को चुन सकते हैं। 

Standard  Courses After 12th Commerce 

Chartered Accountant (CA)

कॉमर्स फील्ड का मोस्ट पॉपुलर प्रोफेशनल कोर्स है सीए। 5 साल की duration के इस कोर्स को करने के बाद आप ऑडिटिंग फर्म्स, बैंक, फाइनेंस कंपनीज, लीगल फर्म्स और स्टॉक ब्रोकिंग फर्म में जॉब कर सकते हैं। वही अपने टैक्स कंसलटेंट, ऑडिटर, एडवाइजर, फाइनेंसियल ऑफिसर जैसी करियर opportunities को ओपन कर सकते हैं।

आप चाहे तो इंडिपेंडेंट प्रैक्टिस भी कर सकते हैं। हालांकि यह बाकि कोर्स के कंपैरिजन में थोड़ा सा मुश्किल है लेकिन कंसिस्टेंट एफर्ट से इसे कंप्लीट किया जा सकता है। इंडिया में नॉन टेक्निकल फील्ड में हाईएस्ट पेइंग प्रोफेशनल्स में CA भी शामिल होते हैं। उन्हें मिलने वाला स्टार्टिंग सैलेरी पैकेज 4 से 6 लाख पर एनम हो सकता है। जो एक्सपीरियंस के साथ 20 लाख पर एनम से भी ज्यादा तक इनक्रीस हो सकता है।

Company Secretary (CS)

CA के बाद कॉमर्स स्टूडेंट के बीच में पॉपुलर कोर्सेज में दूसरे नंबर पर CS कोर्स ही आता है, जिसकी duration 1 से 3 साल होती है। इस कोर्स को कंप्लीट करने के बाद आप कॉन्टैक्ट कोऑर्डिनेटर, प्रिंसिपल सेक्रेटरी, ऑपरेशंस मैनेजर, कंपनी रजिस्ट्रार, फाइनेंस कंसलटेंसी, इन्वेस्टमेंट बैंकर जैसी पोजीशन पर काम कर सकते हैं। एक CS को मिलने वाली एवरेज स्टार्टिंग सैलेरी 3 से 8 लाख तक पर एनम तक हो सकती है। 

Certified Financial Planner (CFP)

अगर आप पर्सनल फाइनेंस, वेल्थ मैनेजमेंट, इंश्योरेंस प्लानिंग और म्यूचुअल फंड में इंटरेस्ट रहते हैं तो आप यह कोर्स कर सकते हैं। CFA एथिकल फाइनेंसियल प्लानिंग प्रैक्टिस के लिए मोस्ट रिस्पेक्टेड ग्लोबल सर्टिफिकेशन होता है। इस सर्टिफिकेशन को करने वाले कैंडिडेट्स बैंक, डिस्ट्रीब्यूशन हाउस, इन्शुरन्स कंपनी, इक्विटी ब्रोकरेज और फाइनेंसियल प्लानिंग फर्म्स में काम कर सकते हैं। 

ये कोर्स करने के लिए आपको 12th के बाद सर्टिफिकेशन के पास एग्जाम क्लियर करने होंगे। एक CFA को इंडिया में मिलने वाला एवरेज सैलेरी पैकेज 3.5 लाख पर एनम से शुरू हो सकता है

Cost and Management Accountant (CMA)

कॉमर्स स्टूडेंट के लिए एक और बहुत ही उपयुक्त प्रोफेशनल कोर्स है। CMA एक सर्टिफिकेट प्रोग्राम है जिसकी duration 6 महीने से 4 साल तक हो सकती है। 12th क्लास के बाद आप CMA 3 लेवल्स में से सेकंड लेवल यानी इंटरमीडिएट लेवल में एडमिशन ले सकते हैं।

इस प्रोग्राम का मेन फोकस वैल्यूएशन इश्यूज, फाइनेंसियल स्टेटमेंट एनालिसिस, वर्किंग कैपिटल पॉलिसीज, एक्सटर्नल फाइनल रिपोर्ट पर होता है। इस कोर्स को कंप्लीट करने के बाद आप फाइनेंशियल एनालिस्ट, कॉरपोरेट कंट्रोलर, फाइनेंसियल कंट्रोलर और चीफ इंवेस्टमेंट ऑफिसर जैसी पोजीशन पर काम कर सकते हैं।

सीएमए कोर्स कंप्लीट करने के बाद आपको मिलने वाला सैलरी पैकेज ₹700000 पर एनम से स्टार्ट हो सकता है। जो चीफ इन्वेस्टमेंट ऑफिसर की पोस्ट तक पहुंचते-पहुंचते ₹50,00,000 पर एनम तक पहुंच जाता है। 

इन प्रोफेशनल कोर्सेज के बाद अब आगे आपको यह भी बता दें कि अगर आपके पास 12th कॉमर्स में मैथमेटिक्स ऑप्शनल सब्जेक्ट भी रहा है, तो कौन से कोर्स कर सकते हैं और बिना मैथमेटिक्स के 12th कॉमर्स कंप्लीट करने के बाद आप कौन से कोर्स कर सकते हैं 

12th With Mathematics

12th कॉमर्स with मैथमेटिक्स के बाद किए जाने वाले कोर्स बीकॉम ऑनर्स, बीकॉम इन अकाउंटिंग, बीकॉम स्टैटिसटिक्स, बीकॉम इन मैनेजमेंट अकाउंटिंग एंड इंटरनेशनल फाइनेंस, बीकॉम अकाउंटिंग एंड टैक्सेशन, बीकॉम बैंकिंग एंड फाइनेंस, बीकॉम अप्लाइड इकोनॉमिक्स। 

12th Without Mathematics

12th कॉमर्स without मैथमेटिक्स के बाद किए जाने वाले टॉप कोर्सेज की बात करें तो बीकॉम जनरल, बीकॉम मार्केटिंग, बीकॉम बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन, बीकॉम टूरिज्म एंड ट्रैवल मैनेजमेंट। 

Enjoyed the post! Leave a Reply...