KGR Technique क्या है? In Hindi?

  • Post author:
  • Post last modified:September 4, 2021

किस तरह से KGR Technique काम करती है और किस तरह KGR Technique का इस्तेमाल किया जाता है? अपने ब्लॉग को जल्द से जल्द रैंक कराने के लिए। तो चलिए आज हम इसी टॉपिक पर बात करने वाले है।

KGR का लॉन्ग फॉर्म होता है Keyword Golden Ratio. KGR Technique एक ऐसी Technique है जिसे इस्तेमाल कर आप अपने ब्लॉग को बहुत ही कम समय में गूगल में रैंक करा सकते हो। इतना ही नहीं KGR Technique कि मदद से आपका ब्लॉग या आपकी वेबसाइट Top 15 में या इससे भी ऊपर आ जाएगी अगर आपने इस Technique को सही से इस्तेमाल किया। KGR Technique आपको ऐसे Keywords को ढूंढ निकालने में मदद करती है जिस पर आप आर्टिकल बनाकर अपनी वेबसाइट को रैंक करवा सकते हो। 

Read also: फ्लाइट में एयरप्लेन मोड को क्यों चालू करना पड़ता है?

KGR Techniques का Formula क्या है?

इसका फॉर्मूला कुछ इस तरह से होता है, KGR = Total Result/ Search Volume. ( number of articles is already available / total number of searches ). इसको आसान भाषा में समझते है, देखो गूगल एक बहुत ही बड़ा खजाना है इनफार्मेशन का। हर दिन लाखों ब्लॉगर किसी न किसी टॉपिक पर गूगल पर नई-नई पोस्ट डालते रहते है। मान लो आपको एक टॉपिक पर पोस्ट बनानी है जिस पर पोस्ट बहुत ही कम हो। लेकिन आपको पता ही नहीं है की उस टॉपिक को कैसे खोजे। यही पर आपको KGR Technique काम आएगी। 

अगर आप इस तकनीक को इस्तेमाल कर पोस्ट बनाते हो ऐसा करते हो तो आपकी जो वेबसाइट है वो जल्द ही इंडेक्स होने लग जाएगी। अब अगर जिस टॉपिक पर आपने पोस्ट बनाई है उस टॉपिक पर अगर दूसरे ब्लॉगर द्वारा डाली गई काफी कम पोस्ट है। तो आपकी पोस्ट गूगल में टॉप में आने लगेगी, जिससे आपको ढेर सारा ट्रैफिक मिलेगा। 

Read also: Cloud Computing क्या है? What is Cloud Computing?

Particular टॉपिक पर कितने आर्टिकल है ये कैसे देखते है?

अगर आपको यह देखना है की किसी टॉपिक पर कितने आर्टिकल लिखे हुए है तो आपको करना कुछ भी नहीं सिर्फ आपको गूगल में जाना है और टाइप करना है “allintitle:” और इसके बाद आपको इसके आगे जिस Keyword पर आपको आर्टिकल लिखना है उसे डाले। गूगल आपको दिखाएगा की इस टॉपिक पर कितने आर्टिकल्स है जो की पहले से मौजूद है। किसी दूसरे ब्लॉगर ने लिखे हुए है। Example के लिए आप निचे दिए इमेज में देख सकते है।

 

हमने एक टॉपिक सर्च किया है जिसके कुछ 1,910 Results दिखा रहा है। मतलब की इस टॉपिक पर पहले से ही 1,910 आर्टिकल बने हुए है और अगर आप भी इस टॉपिक पर आर्टिकल बनाते हो तो ऐसे में नई साइट का रैंक होना काफी मुश्किल होता है। अगर आप एक नए ब्लॉगर हो तो आपको ऐसे टॉपिक पर आर्टिकल नहीं बनाने चाहिए। आपके साइट के आर्टिकल के नंबर तो बढ़ेंगे लेकिन आपको ट्रैफिक ना के बराबर मिलेगा। 

Read also: Google My Business के Quality Issues को कैसे Solve करे?

अगर आप एक नए ब्लॉगर है और अपनी वेबसाइट को जल्द से जल्द रैंक कराना चाहते है तो आपको ऐसे टॉपिक पर आर्टिकल बनाने चाहिए जिस टॉपिक पर आर्टिकल काफी कम हो। आप KGR Technique की मदद से ऐसे आर्टिकल को खोज निकाल सकते हो और अपनी वेबसाइट को रैंक करवा सकते हो। 

ऊपर दिए फार्मूला का इस्तेमाल कर आपको जो Results मिलेंगे उसके बेसेस पर आपको काम करना है। Volume कम है Result ज्यादा आ रहा है तो भी चलेगा लेकिन अगर Volume भी ज्यादा है और Result भी ज्यादा है तो आप उस पर काम न करे तो ही बेहतर होगा। 

Read also: Free Blog vs Paid Blog कौन सा बेस्ट है?

Enjoyed the post! Leave a Reply...