E.A.T. Score क्या है और इसे कैसे बढ़ाए? In Hindi

  • Post author:
  • Post last modified:December 19, 2021

E.A.T. Score क्या है?

अगर आप SEO के सभी Updates के बारे में पढ़ते हैं तो आपने हाल ही के कुछ महीनों में E.A.T. के बारे में बार-बार पढ़ा होगा सुना होगा। कुछ लोग कहते हैं कि E.A.T. एक रैंकिंग फैक्टर है कुछ लोग कहते हैं कि नहीं है और गूगल हमेशा की तरह गोलमोल जवाब देता है।

तो आज के इस मज़ेदार आर्टिकल में हम E.A.T. बारे में बात करेंगे। यह क्या बला है? किस तरह की वेबसाइट के लिए जरूरी है? यह रैंकिंग फैक्टर है या नहीं है और इसके लिए क्या करना चाहिए? जब हम वेबसाइट कह रहे है तो यह बिज़नेस वेबसाइट के लिए भी है और ब्लॉग के लिए भी है। यह दोनों तरह की वेबसाइट के लिए जरुरी है। 

E.A.T. का लॉन्ग फॉर्म Expertise Authoritativeness Trustworthiness होता है. गूगल हर वेबसाइट को एक E.A.T. Score देता है। यह E.A.T Score हर वेबसाइट के 3 Factors को टेस्ट करके दिया जाता है। 

  • Expertise:- वेबसाइट या वेबसाइट में कंटेंट लिखने वाला अपने फील्ड में कितना एक्सपर्ट है।
  • Authoritativeness:- कंटेंट लिखने वाले या वेबसाइट की अपने फील्ड में कितनी पकड़ है। क्या लोग उसकी बात मानते है? 
  • Trustworthiness:- वेबसाइट कितनी भरोसेमंद है?

Read Also: Snippet क्या है? और Featured Snippet क्या है?

Read Also: Schema Data क्या होता है?

यह तीनों चीजें आपस में काफी मिलती जुलती चीजें लगती है इसलिए इसे एक आसान Example से समझते है। मान लीजिए कि एक कवि सम्मेलन चल रहा है। कवि सम्मेलन वह मुशायरा है जहां जो भी आप कहना चाहे कह सकते है। कवि सम्मेलन में बड़े फेमस कवी आए हुए है कुमार विश्वास मान लेते है। उन्हें देखने के लिए हजारों लोगों की भीड़ आ गई है। इस सीन में कवि क्या हुआ कवी एक Expert है। वह अपने काम में Expert है तभी लोग वहां पर उसे देखने के लिए आए हुए हैं।

कवि ने गला साफ किया और कविता पढ़नी शुरू की। पहले उसने ‘प्यार’ कहा, फिर ‘मोहब्बत’ कहा और फिर ‘इश्क’ कहा। अब ऑडियंस वाह-वाह वाह-वाह बोलने लगती है। यह ऑडियंस की वाह-वाह Authoritativeness है। कवि जो भी कह रहा है उस पर लोग Response दे रहे है। बचा क्या Trustworthiness, जो कवि को Introduce करता है मंच पर जो तारीफ करके बुलाता है जो इरशाद-इरशाद बोलता है और जो बताता है की शायर काफी अच्छा है। इसे हम Trustworthiness कह सकते है। 

शायर होना एक Expertise है वह एक Expert हो गया। ऑडियंस का इंगेजमेंट Authoritativeness है और उन्हें वहां बुलाना, उनकी तारीफ करना Trustworthiness है। 

E.A.T. Score आया कहां से?

गूगल एक टेक्नोलॉजी Giant है जो Artificial Intelligence और Machine Learning में काफी ज्यादा Invest कर रहा है। लेकिन इंसान का दिमाग अभी भी सबसे ज्यादा हाई क्वालिटी Result देता है। गूगल हजारों क्वालिटी Raters को Hire करता है पूरी दुनिया में।

इन क्वालिटी Raters को गूगल सर्च टीम Keywords की लिस्ट देती है। इन Keywords को क्वालिटी Raters गूगल पर जाकर सर्च करते हैं और देखते हैं कि जो सर्च Results आ रहे हैं क्या वह हाई क्वालिटी है या नहीं। इसके बारे में क्वालिटी Raters गूगल सर्च टीम को अपना फीडबैक देते हैं।

यह क्वालिटी Raters जिस डॉक्यूमेंट को गाइड की तरफ फॉलो करते हैं उसे Quality Raters Guidelines कहते हैं। E.A.T. जा जिक्र सबसे पहले इस Quality Raters Guidelines में ही आया था। यह तो पक्का है कि E.A.T. सर्च रैंकिंग में काफी इंपॉर्टेंट है और गूगल लगातार इस Score के बेस पर वेबसाइट को टेस्ट करता रहता है। लेकिन क्या सच में E.A.T. रैंकिंग फैक्टर है? आपको बता दे की Quality Raters Guidelines असल में गूगल सर्च के रैंकिंग फैक्टर नहीं होते हैं। बल्कि एक तरह से फ्यूचर गोल्स होते हैं। 

Read Also: Keyword Density क्या है और क्या यह Blogging में जरूरी है?

Read Also: Semantic SEO क्या है?

जैसे हम हर नए साल पर एक गोले सेट करते है की हमें 10 किलो वजन कम करना है और नई गाड़ी लेनी है। वैसे ही गूगल अपने लिए फ्यूचर गोल्स को Quality Raters Guidelines में सेट करता है। वो Quality Raters सर्च Results को वेरीफाई करते है और गूगल को अपना फीडबैक देते है। उस फीडबैक के बेस पर गूगल अपनी Algorithms को Optimize करता हैं।

आप यह भी कह सकते हैं कि Quality Raters न सिर्फ सर्च Results की Quality को वेरीफाई करने का काम करते हैं बल्कि Algorithms के लिए रोल मॉडल का काम भी करते हैं। E.A.T. अभी जितना वेबसाइट के लिए इंपॉर्टेंट है उससे भी ज्यादा Future में होने वाला है। तो इसके ऊपर अभी से आपको फोकस करने की जरूरत है। अगर आप Already नहीं कर रहे हैं तो। अगला इंपॉर्टेंट सवाल है कि क्या E.A.T. हर वेबसाइट के ऊपर लागू होता है?

क्या E.A.T. हर वेबसाइट के ऊपर लागु होता है? 

इसका जवाब थोड़ा सा गोलमाल है। YMYL पेज यानी कि ऐसे वेबपेज और वेबसाइट जो Your Money और Your Life से रिलेटेड है। उन पर E.A.T. Score का असर बहुत ज्यादा होता है। गूगल की Quality Raters Guidelines कहती है कि जिन YMYL Pages का E.A.T. Score कम है उन्हें कम रैंकिंग दी जानी चाहिए। YMYL कैटेगरी में मेडिकल, फाइनेंस, इंश्योरेंस जैसी वेबसाइट और वेबपेज आते है। इसके साथ में स्कूल, मेन्टल हेल्थ जैसी वेबसाइट भी YMYL कैटेगरी आती है। 

लेकिन इन YMYL Pages के अलावा नॉर्मल वेबसाइट भी E.A.T. Score से अफेक्ट होती हैं। 2019 में गूगल ने एक गाइड पब्लिश की थी ऐसे वेबमास्टर्स के लिए जिनकी वेबसाइट गूगल Core अपडेट से एफेक्ट हुई है। उसमें गूगल ने रिकमेंड किया था कि अगर आपकी वेबसाइट Core अपडेट के बाद ख़राब परफॉर्म कर रही है तो आपको E.A.T. Score पर ध्यान देना चाहिये। यह फैक्ट ही E.A.T. की Importance बताने के लिए काफी है। 

E.A.T. Score को कैसे बढ़ाए?

सबसे पहला काम जो आपको करना है वह अपनी वेबसाइट में ऑथर प्रोफाइल क्रिएट करनी है। चाहे ब्लॉग हो या बिज़नेस वेबसाइट हो एक बड़ी कॉमन गलती जो हम देखते है वह यह है कि आर्टिकल में राइटर का कोई प्रोफाइल नहीं होता है। आर्टिकल किसने लिखा है? क्यों लिखा है? कौन है वो ज्ञानी पुरुष? यह सारी जानकारी जरुरी होती है। E.A.T. मतलब की Expertise Authoritativeness और Trustworthiness में, Expertise इस राइटर की होती है। Authoritativeness कंटेंट और वेबसाइट कि होती है और Trustworthiness राइटर और वेबसाइट दोनों कि होती है। 

E.A.T. Score क्या है और इसे कैसे बढ़ाए In Hindi

E.A.T. Score बढ़ने के लिए हम अपनी वेबसाइट में ऑथर सेक्शन बनाते है और राइटर के बारे में ज्यादा से ज्यादा जानकारी देते है। अगर आपका एक ब्लॉग है तो आप अपने बारे में जानकारी दे सकते है। अगर आपकी वेबसाइट किसी लॉयर की है तो आप अपने Certificates और Successes के बारे में भी जानकारी दे सकते है। लिंक में अपने पर्सनल सोशल मीडिया के लिंक भी दे सकते है। टारगेट सिर्फ अपनी इंफॉर्मेशन को अपनी पर्सनालिटी को वेरीफाई कराना है। 

इसके अलावा अपनी वेबसाइट पर हाई क्वालिटी UGS User Generated Content को बनाइए। जितने ज्यादा लोग आपके कंटेंट को पढ़ कर उस पर इंटरैक्ट करते है उसपर कमेंट करते है। उतना ही ज्यादा आपके पेज का अथॉरिटी Score बढ़ता है। आपकी वेबसाइट पर रिव्यु को लेना यह भी E.A.T. Score को बढ़ने में काफी मदद करता है। 

YMYL क्या है?

आज के समय में इंटरनेट सिर्फ किसी सेलिब्रिटी के जन्मदिन या फोटो सर्च करने के काम नहीं आता। बल्कि आप अपने आसपास के डॉक्टर का पता भी आपको चाहिए तो भी आप गूगल पर ढूंढ़ते है। सबसे अच्छा इन्शुरन्स प्लान कौनसा है? बच्चो को कोनसा खाना देना चाहिए? या किस रस्ते पर रात में सफर करना चाहिए? यह सभी जानकारी हम गूगल से ही पूछते है। मतलब अधिकतर टाइम हम अपने Daily Life से जुड़े सवालो को गूगल पर सर्च करते है। 

जब भी कोई वेबसाइट Money या Life से जुड़ी जानकारी देती है तो उसे YMYL पेज कहा जाता है। YMYL का फुल फॉर्म होता है Your Money Your Life. YMYL Pages को 6 बड़ी Categories में बाटा जा सकता है। 

1 Shopping or Financial Transaction

कोई भी वेबसाइट जो विजिटर को खरीदारी करने, पैसे भेजने या बिल पे करने की सुविधा देती है। 

2. Financial Information Pages

ऐसी वेबसाइट जो किसी Investment, Taxes, Retirement, Planning, Home, Loan या insurance के बारे में जानकारी देती है।

3. Medical Information Pages 

ऐसे वेबपेज जो Health, Medicine, किसी खास बीमारी, Mental Health या Diet के बारे में जानकारी देती है।   

4. Legal Information Pages 

ऐसे वेबपेज जो किसी भी तरह की लीगल इनफार्मेशन देती है। जैसे तलाक और बाकी लीगल जानकारी। 

5. News Article Pages 

जिनमे किसी गवर्नमेंट पॉलिसी को बताया गया हो। international business, politics technique, technology के बारे में जानकारी देने वाले Pages भी इसी Category में आते है। 

6. Others 

इसमें कोई भी ऐसा पेज आता है जो यूजर की Financial, Physical या Mental जीवन पर असर डालता है। 

इन सभी Categories में आने वाली वेबसाइट को YMYL Pages में Include किया जाता है। इन YMYL Pages को गूगल काफी ज्यादा स्ट्रिक्ट Method से रैंक करता है। नॉर्मल Pages में E.A.T. Factors को इन्वॉल्व नहीं किया जाता। लेकिन इन 6 Categories में आने वाली सभी वेबसाइट पर E.A.T. का असर जरूर पड़ता है।

YMYL Pages के रैंक होने में या ना होने में E.A.T. का बड़ा हाथ होता है। जिन Pages पर E.A.T. Score अच्छा होता है उन्हें गूगल अच्छी रैंक देता है। जिन Pages पर E.A.T. Csore कम होता है उन्हें रैंक करने में गूगल कंजूसी करता है उन्हें कम रैंक देता है।

Hostinger web hosting

Enjoyed the post! Leave a Reply...