Blog Post को Fast Index करने के 7 Effective Ways

  • Post author:
  • Post last modified:September 5, 2021

चाहे आपकी बिज़नेस website हो blog हो या किसी ओर टाइप की website SEO related सबसे पहले चैलेंज होता है अपने नए-नए pages को जल्दी से जल्दी index कराना, जो की धीरे-धीरे एक problem बनता जा रहा है। नए pages को index होने में कुछ दिनों से लेकर कुछ हफ्तों तक का time लग सकता है। लेकिन क्या कोई ऐसा रास्ता है जिनकी मदद indexing की speed को बढ़ाया जा सके? 

जवाब है हां है, और आज हम आपको कुछ ऐसे tips देंगे जिनकी मदद से आप अपने blog की नई post या नए pages को fast index कर सकते है। Page का index नहीं होना इसमें काफी problems हो सकते है, इसलिए solution से पहले देखते है की indexing कैसे होती है?

नए pages publish होने से लेकर index होने के बिच में 3 steps होते है, 

  • Discovery – मतलब आपके नए page के बारे में Google Bot को पता चलता है 
  • Crawling – Google Bot आपके नए page को visit करता है 
  • Indexing – इसका मतलब है आपके page को google अपने पास save करता है, उसे अपनी indexing list में add करता है 

आधी problems आपकी इसी बात से solve हो जाएगी की अगर आप crawling और indexing दोनों को सही से समझ लेते है तो। काफी लोगो ऐसे होते है जो indexing को सही से समझते ही नहीं है और काफी ऐसे भी है जो इसके बारे में जानते ही नहीं है। काफी लोगो का सवाल होता है की क्या post का title और description change कर सकते है और क्या ऐसा करने से indexing पर कोई असर होता है? 

क्या Post का Title और Description Change करने से Indexing पर असर होता है?

काफी लोग social medias पर अपनी शिकायतों को comment box में बताते है की उनका page का content change करने के बाद deindex हो गया। इसमें इतना हैरान होने वाली बात नहीं है, आपने arrange marriage वाला process तो सुना ही होगा !

Crawling लड़की देखने जाने जैसा होता है और Indexing रिश्ते का पक्का हो जाना होता है। लड़की देखने जाने का मतलब ऐसा नहीं है की रिश्ता पक्का हो गया, अगर लड़के वालो को लड़की पसंद आई तो ही बात आगे बढ़ेगी। बिलकुल ऐसे ही जब Google Bot आपके page को crawl करता है और उसे आपका page सही लगता है तो वो उसे index करेगा। Indexing का मतलब रिश्ता पक्का होना, सिर्फ रिश्ते का पक्का होना शादी का नहीं। 

अगर शादी से पहले कोई भी उलटी-सीधी बात पता चलती है चाहे वो लड़के की हो या लड़की की हो तो रिश्ता टूट सकता है। वैसे ही indexing के बाद आप पेज का content change कर देते है, title description में कुछ ऐसा change करते है जो google के page guides के खिलाफ है तो रिश्ता टूट सकता है। मतलब की indexing cancel हो सकती है। 

Indexing में शादी वाली कोई stage नहीं होती, क्योकि कोई भी post या page हमेशा के लिए एक ही position पर नहीं रहता। Pages की position बदलती रहती है, कभी ऊपर तो कभी निचे, ये सब चलता रहता है। 

Indexing एक काफी complex process है, जितना लोग समझते है उससे भी काफी ज्यादा complex है। Google के indexing system को Caffeine कहा जाता है और Caffeine 7 काम करता है। 

Google में Indexing कैसे होती है?

  1. Web Pages को render करना 
  2. Web Pages में से links को निकालना 
  3. Pages में से metadata को निकालना 
  4. वेब pages में से schema data को निकालना 
  5. Secrate On Page Signals को कैलकुलेट करना 
  6. अगली बार page कब crawl किया जाएगा इसका time decide करना 
  7. Index बनाना जो users को दिखाया जाएगा 

Caffeine नाम के इस Google के indexing system का आखरी काम है index करना। अगर पहले के process में आपकी website fail हो जाती है, google Caffeine की मदद नहीं करती है तो indexing fail होगी और अगला process schedule भी नहीं होगा। 

Fast Indexing के tips पर आने से पहले एक कड़वी सच्चाई समझनी जरूरी है। Google कभी भी सभी pages को index नहीं करता है। आपके pages में जो content है अगर वो google के पास पहले से मौजूद है तो गूगल उसे index नहीं करेगा। Low quality content, ख़राब तरीके से लिखा हुआ content, scrapped content – जो कभी भी users पढ़ें नहीं वाले उसे google index भी नहीं करेगा। 

Blog Post को Fast Index करने के 7 Effective Tips

हम जो भी आगे देखने वाले है वो तभी काम कर सकते है अगर आपका content index करने लायक है। तो इन तरीको को try करने से पहले एक बार अपने content को search user की तरह पढ़ कर देखिए, और सवाल करिए अपने आप से की क्या यह content किसी user के पढ़ने लायक है? 

Request Indexing 

Request Indexing सबसे पहला और सबसे सटीक तरीका है post या page को fast index कराने का। आपको google search console में जाना है और top search बार में अपने page के लिंक को देना है। बाद में indexing के लिए request करना है, इससे आपका page google के crawler के पास चला जाएगा और google google bot इसे जल्दी से crawl कर लेंगे। अगर आपके साइट में कोई technical issue नहीं है और पेज का content ठीक-ठाक है तो आपका page कुछ ही घंटो में index हो जाएगा। 

Sitemap 

Google को अपने नए page के बारे में बताने का सबसे अच्छा तरीका है sitemap, चेक करिए की आपका नया पेज या नया post sitemap में add हो चूका है या नहीं। WordPress, Blogger, Shopify जैसे platforms अपने आप sitemap को generate करते है, वो आपके नए पेज को sitemap में जोड़ देते है। लेकिन फिर भी आप verify कर लीजिए अपने sitemap को browser में open करके। अगर google sitemap को fetch ही नहीं कर रहा है तो आपके नए page का लिंक उसमे होना या न होना इससे कोई फर्क नहीं पड़ेगा। इसलिए search console में देखिए कही couldn’t fetch का error तो नहीं आ रहा है?

Sitemap Pinging 

अगर आपकी website पर content काफी दिनों बाद post किया जाता है तो ऐसे में google bot कुछ दिनों तक आपकी site पर आए ही ना। जिससे sitemap में add किए हुए link का पता भी उसे नहीं चलेगा। इस problem का solution क्या होगा? Google को हम खुद जा कर बताएंगे की हमारे sitemap में कुछ change हुआ है। आपको निचे दिए लिंक को google में सर्च करना है, link में आपके sitemap का URL enter करिए और search कर दीजिए। आपको एक notice मिल जाएगी जिसका मतलब होगा की google को आपके sitemap के update होने का जो notification है वो मिल चूका है। 

Internal Linking 

Internal Linking pages को rank और index करने में काफी फायदेमंद होती है। Search Engine Bot एक पेज पर मिलने वाले सभी links को crawl करते है। जब आप अपने नए page का link किसी पुराने page पर डालते है जो पहले से index हो चूका है तो आपके नए page के crawl होने के chances बढ़ जाते है। 

Make A Schedule 

अपने post को publish करने का Schedule बनाना काफी जरूरी होता है। Website को crawl करना अपने आप में काफी resource consuming task है इसलिए गूगल हर जुगाड़ लगा कर crawling को कम करना चाहता है जिससे कम से कम खर्च में ज्यादा से ज्यादा कंटेंट को वो crawl कर सके। आप google को इस काम में मदद कर सकते है एक fix Schedule पर अपनी post को publish कर के। 

अगर आप एक हफ्ते में 4 post publish करते है तो हफ्ते में 4 दिन और उन दिनों का time fix कर लीजिए। आपको fix दिन में fix time पर ही अपनी post को publish करना है। जैसे अगर आप हफ्ते में 1 पोस्ट करते है तो आप Sunday के दिन सुबह 7 बजे या आपके हिसाब से आप अपने time को set कर post को publish कर सकते है। ऐसा करने से आपके page के जल्दी crawl और index होने के chances बढ़ जाते है।

Share Post On Social Media 

दोस्तों देखा जाए तो लगभग काफी लोग ऐसे होते है जो इस चीज को serious नहीं लेते। वो सिर्फ और सिर्फ अपने ब्लॉग पर भी ध्यान देते है social media का वो बिलकुल भी इस्तेमाल नहीं करते। दोस्तों शायद आपको social media की पावर का अंदाजा तो लग ही गया होगा, चुटकी में किसी भी चीज को वायरल कर देती है और फेमस बना देती है। हजारो ऐसे लोग है हजारो ऐसे creators है जो social media की मदद से काफी successful बने है और शायद ये बात हमें आपको बताने की जरुरत नहीं है। 

आप जो भी content अपने ब्लॉग पर देते है वही आपको social medias पर भी देना है। आप चाहो तो एक आर्टिकल को 4 से 5 छोटे-छोटे videos में divide कर सकते हो, आपकी मर्जी आप कितने पार्ट्स करते हो। लेकिन आपके एक ब्लॉग के कम से कम 5 अलग-अलग social media pages या channels होने चाहिए अलग-अलग social platform पर। 

50 से भी ज्यादा platforms है लेकिन उनमे से कम से कम 5 platform पर आपको आपके ब्लॉग का पेज या चैनल बनाना है। जैसे ही आप आर्टिकल को publish करते हो उसे आप उन accounts पर शेयर कर दीजिए, इसके लिए आप auto sharing का option भी मिल जाता है या काफी सारे plugins होते है जो आपको auto sharing फीचर प्रोवाइड करवाते है। 

जैसे ही आप social मीडिया पर आर्टिकल को शेयर करते है तो लोग आपके पोस्ट के लिंक पर click कर के आपके नए पोस्ट पर आ जाते है। गूगल आपके ट्रैफिक को ट्रैक करता रहता है, ऐसे में जब कोई user आपके ब्लॉग पोस्ट को visit करता है तो गूगल को पता चल जाता है की एक नया पेज add हो चूका है। जैसे ही गूगल को पता चलता है तो गूगल के bot उस यूजर का पीछा करते हुए आपके पेज पर आते है और जैसे ही उन्हें लगता है की आपका आर्टिकल index करने के लिए सही है तो वो bot उसे indexing के लिए गूगल को भेज देता है। ऐसे में कुछ ही देर में आपका आर्टिकल Index और Rank होना शुरू हो जाता है। 

Speed-up Your Website 

Google खुद आपको ये फीचर प्रोवाइड करता है जिसे AMP pages कहा जाता है। अगर आप थोड़े बहुत भी पुराने है blogging की फील्ड में तो आपने देखा होगा की नई वेबसाइट के pages काफी जल्दी Search Engine Result Pages (SERP) में आ जाते है। वो इसलिए की आपके वेबसाइट में ज्यादा कंटेंट नहीं होता, ज्यादा plugin नहीं होते। छोटी वेबसाइट होने की वजह से वो काफी fast भी होती है और इसलिए वो कभी-कभी जल्दी रैंक भी कर जाती है। 

इसलिए Google Accelerated Mobile Pages (AMP) को provide करता है ताकि आपके साइट के pages fast लोड हो और यूजर को जल्दी से विज़िबल हो। आप इसे इस्तेमाल कर सकते हो, AMP आपके web pages की स्पीड को काफी बढ़ा देता है। हाल ही में गूगल ने website की speed को अपने Ranking Factors में शामिल कर लिया है यानि गूगल अब किसी साइट को रैंक करने के लिए उसकी speed को भी consider करेगा। 

ऐसा नहीं है की आप सिर्फ AMP को ही इस्तेमाल कर सकते है, बल्कि आप दूसरी चीजों को भी इस्तेमाल कर सकते हो अपने साइट की स्पीड को बढ़ाने में। जैसे आप Lightweight Theme का भी इस्तेमाल कर सकते है या Cache Plugin को इस्तेमाल कर सकते हो, ये भी आपको आपकी साइट की स्पीड को बढ़ाने में मदद करते है। लेकिन फिर भी आपके साइट की स्पीड अच्छी नहीं हो रही है तो आप किसी अच्छी Web Hosting को चुन सकते हो, एक अच्छी Hosting आपके साइट की speed को बिना किसी मेहनत के काफी बढ़ा सकती है। 

काफी ऐसी कंपनियां भी है जो पैसे लेकर आपके pages को index करती है, लेकिन हम आपको उन्हें बिलकुल भी रेकमेंड नहीं करेंगे। इन पर पैसा बर्बाद करने से अच्छा है आप एक बेहतर writer hire कर सकते है। गूगल काफी स्ट्रिक्ट हो चूका है, अगर आप उसे गलत तरीके से ट्रीट करते है तो आपको उसका नुकसान देखने को मिलेगा। इसलिए अपनी मेहनत पर पैसे दे कर पानी मत फेरना। 

उम्मीद है आपको हमारी बताई बाते समझ में आ गई हो, अगर आपका कोई सवाल है तो आप उसे comment section में बता सकते है। 

Enjoyed the post! Leave a Reply...