Software as a Service (Saas) Business कैसे शुरू करे?

  • Post author:
  • Post last modified:July 24, 2021

Software शब्द अपने अक्सर सुना ही होगा और आजकल तो शायद आप ज्यादा ही सुन रहे हैं। क्योंकि मोबाइल कंप्यूटर या कोई भी टेक्नोलॉजी जिस पर हम काम कर रहे होते हैं या जो हमारे किसी problem को solve करता है वो बेसिकली एक Software ही होता है। जो आजकल हमारे काफी काम आता है। किसी भी सिस्टम को चलाने के लिए Software कमांडिंग सिस्टम होता है, जो सिस्टम को इंस्ट्रक्शन देता है कि क्या करना है।

मोबाइल फोन, लैपटॉप, टेबलेट, एटीएम मशीन, वेंडिंग मशीन या कोई भी इलेक्ट्रॉनिक इक्विपमेंट जिसे इंस्ट्रक्शन देना पड़ता है उसमें सॉफ्टवेयर प्रोग्रामिंग की होती है। ताकि वह हमारी रिक्वायरमेंट के हिसाब से आउटपुट जेनरेट कर सके। जहां कहीं भी टेक्नोलॉजी यूज़ हो रही है वहां Software की जरूरत पड़ती है। वीडियो गेम चलाने से लेकर के रॉकेट उड़ाने तक हर एक काम में Software यूज़ होता है। 

Software As A Service क्या है?

सबसे पहले आसान शब्दों में समझ लेते हैं कि क्या है Software As A Service क्या है? जब आप किसी Software को यूज कर रहे होते हैं तो वह आपके एक्जिस्टिंग सिस्टम का हिस्सा होता है। जैसे कि आप कंप्यूटर चला रहे हैं उसके अंदर जो आपका Windows सिस्टम है वह आपके पास physically मौजूद है। आपके सिस्टम में उसे अपलोड किया गया है लेकिन Software As A Service का का मतलब होता है कि जो भी यूजर उस सॉफ्टवेयर यूज़ करेगा वो किसी इंटरनेट Browser या किसी App के जरिए उसको यूज करेगा।

तो ऐसे सॉफ्टवेयर को बनाने वाले सॉफ्टवेयर developers इसको सर्वर पर डालते हैं और उसे यूज करने वाले लोग अलग-अलग लोकेशन से इंटरनेट के जरिए सॉफ्टवेयर को access करते हैं। Internet या Web Based Software को Hosted solution या web based सलूशन भी कहा जाता है। अब बात जब Software As A Service Business की हो रही है तो आपके मन में यह सवाल भी आ रहा होगा कि, मैं तो सॉफ्टवेयर डेवलपर नहीं हूं या मेरे अंदर तो कोई भी टेक्निकल क्वालिटीज नहीं है। तो क्या मैं ऐसी कंपनी चला सकता हूं? जी हां यह बिल्कुल पॉसिबल है। 

इसके लिए आपको इन सारी चीजों की बारीकियों को समझना जरूरी है। तभी आप अपना खुद का business develop कर पाएंगे। जैसे कि ये service होता क्या है? इनका यूज कहां कहां होता है? वह कौन लोग है जो ये service डेवलप कर सकते हैं? कौन आपके कस्टमर बनेंगे और इस बिजनेस में बने रहने के लिए किन-किन चीजों को जानना जरूरी है? कुछ बातें हैं जो लगभग हर business पर लागू हो सकती है। तो बात करें Software As A Service की तो यहां पर आपके पास हजारों तरह की प्रॉब्लम आ सकती है।

हर क्लाइंट की अपनी प्रॉब्लम होती है और वह प्रॉब्लम एक अलग सलूशन की मांग करती है। इतना जान लीजिए कि आप एक लाइन सलूशन सर्विस देने जा रहे हैं इसके लिए आपको फील्ड की अच्छी नॉलेज होनी चाहिए। अगर आप अपने क्लाइंट की प्रॉब्लम को सॉल्व करने में कैपेबल है और आपका सलूशन औरों से ज्यादा बेहतर है, तो आप इस business में grow कर सकते हैं। इसका सबसे बेहतर तरीका यह है कि अपने क्लाइंट से उसके प्रॉब्लम पर खुलकर बात की जाए। अगर क्लाइंट की प्रॉब्लम को केयरफुली सुना जाए तो सलूशन प्रोवाइड करने में काफी हेल्प हो जाती है।

इसके लिए कुछ चीजों को ध्यान में रखने की जरूरत है। जैसे कि क्या आपने प्रॉब्लम को आईडेंटिफाई कर लिया है? क्या आपके पास क्लाइंट की प्रॉब्लम का सलूशन है? आप क्लाइंट को जो सर्विस देने वाले हैं क्या वह से खरीदने की कैपेसिटी रखता है और क्लाइंट जो प्रॉब्लम फेस कर रहा है उसे सॉल्व करने के लिए उसके पास क्या एक्जिस्टिंग सलूशन मौजूद है? आप उसे क्या बेहतर सर्विस देने वाले हैं?

Software As A Service में Client को क्या क्या दे सकते है?

इस Business Model में सर्विस प्रोवाइडर अपने क्लाइंट को डेटाबेस मैनेजमेंट सॉफ्टवेयर, मैसेजिंग सॉफ्टवेयर, पेरोल प्रोसेसिंग सॉफ्टवेयर, मैनेजमेंट इनफार्मेशन सॉफ्टवेयर, ह्यूमन रिसोर्स मैनेजमेंट, लर्निंग मैनेजमेंट, कांटेक्ट मैनेजमेंट, अकाउंटिंग, कस्टमर रिलेशनशिप मैनेजमेंट। ऐसे अलग-अलग जरूरत के सॉफ्टवेयर बना कर देता है, जो इंटरनेट से एक्सेस होते हैं। तो अब आपको देखना होगा कि आप जहां कहीं भी अपना सेटअप लगाने जा रहे हैं वहां पर क्लाइंट किस तरीके के हैं और उनकी क्या क्या जरूरत है। 

आपने जो अपनी केटेगरी सेट की है उसके लिए जरुरत भर के क्लाइंट मार्किट में है या नहीं? साथ ही मार्केट में ऐसे और कौन से सर्विस प्रोवाइडर्स है जो ऑलरेडी Software As A Service का बिजनेस कर रहे हैं? यह मार्केट रिसर्च आपको अपना बिजनेस सेटअप करने में काफी हेल्प करेगा। 

Software As A Service चलने के लिए क्या चाहिए होता है?

साथ ही बिज़नेस सेटअप करने के लिए आपको चाहिए एक्सपोर्ट की एक टीम। जिसमे सॉफ्टवेयर डेवेलपर्स, क्वालिटी टेस्ट करने वाले, इंटरफेस डिजाइन करने वाले, सिक्योरिटी देखने वाले, सर्वर मैनेज करने वाले, डेटाबेस डेवलपर्स, वेब डेवलपर जैसे ढेर सारे सॉफ्टवेयर इंजीनियर और आर्किटेक्ट की जरूरत पड़ेगी। कोशिश कीजिए कि ये सभी एक्सपर्ट आपके टीम में हो ताकि आप अपने क्लाइंट को एक फुलप्रूफ और कंपलीट सॉल्यूशन दे सकें। 

इसके बाद आपको प्राइसिंग मॉडल भी डिसाइड करना पड़ेगा। जब कोई क्लाइंट आपके पास कोई सलूशन मांगने आ रहा है और आप उसे वेब बेस्ड सलूशन दे रहे हैं तो कोशिश कीजिए कि अपनी दी हुई सर्विस के बदले उसे मंथली सब्सक्रिप्शन ली जाए। अपने प्रोडक्ट या सॉफ्टवेयर को एक ही प्राइस पर कस्टमर को लाइफ टाइम पीरियड के लिए देने के बदले सब्सक्रिप्शन मॉडल पर देना आपके लिए ज्यादा फायदेमंद रहेगा। हर एक सॉफ्टवेयर को टाइम टू टाइम अपडेट और अपग्रेड करने की जरूरत पड़ती है।

कई बार क्लाइंट आने वाले दिनों में अपनी जरूरत के हिसाब से सॉफ्टवेयर में चेंज लाने को भी कहता है। तो इसके लिए भी आपको सब्सक्रिप्शन या चार्ज सेट करना पड़ेगा। जैसे अपग्रेडेशन फीस, रिनुअल फीस, साइबर सिक्योरिटी फीस आदि. सर्विस को इस तरीके से देने पर आपके रिवेन्यू जेनरेशन मॉडल को फायदा होता रहेगा। 

अपनी वेबसाइट बनाए

अब आगे बिज़नेस को बढ़ाने ले लिए आपको एक वेबसाइट की जरूरत भी पड़ेगी इसलिए आप अपना एक Domain Name बुक करवा लीजिए। याद रखिएगा कि domain name जितना छोटा और आसान होगा उसे याद रखना और किसी क्लाइंट के लिए उसे इंटरनेट पर सर्च करना उतना ही आसान होगा। आज के टाइम कोई भी बिज़नेस चलाने के लिए वेबसाइट बनाने का खर्चा बहुत ज्यादा नहीं होता है। तो आप अपने लिए वेबसाइट बनाए और क्लाइंट को भी वेबसाइट कि अगर जरूरत है तो उसे भी रेकमेंड करें। 

एक Branded Name तय करे

इसी के साथ अब आगे बढ़ते हैं और बात करते हैं अपनी सर्विस को एक ब्रांड के तौर पर develop करने के लिए आपको एक Branded Name की जरूरत पड़ेगी। इसके लिए सबसे पहले आप अपनी कंपनी का नाम डिसाइड करके उसे रजिस्टर जरूर करवाएं। 

आपके बनाए हुए प्रोडक्ट का क्लाइंट क्या फीडबैक दे रहा है? उसे यूज करने वाले लोग कितने कंफर्टेबल है? मार्केट में उस प्रोडक्ट का रिस्पांस क्या है? क्या आपके क्लाइंट ने किसी अपने जानने वाले को या किसी दूसरी कंपनी को आपकी सर्विस रेकमेंड की है या नहीं और नई टेक्नालॉजी आने पर आपकी टीम उस पर क्या काम कर रही है? इन सारी चीजों को अगर आप ट्रैक करेंगे तो Software As A Service में आप मार्केट लीडर बनने की ओर आगे बढ़ेंगे। कई बार आपको अपना बिज़नेस बढ़ाने के लिए और अपने क्लाइंट बेस क्रिएट करने के लिए फ्री सर्विस देने की जरूरत पड़ सकती है।

जैसी की अगर आप Software As A Service बिज़नेस चला रहे हैं तो कुछ ऐसे बेसिक सॉफ्टवेयर बनाइए जिसे आप ट्रायल बेसिस पर लोगों को यूज करने के लिए दे सके। जब क्लाइंट को लगेगा कि यह उनकी प्रॉब्लम को सॉल्व कर रहा है या उनके रिक्वायरमेंट को फुल फील कर रहा है, तब उसके अपग्रेडेड वर्जन के लिए या फुलप्रूफ सलूशन के लिए सर्विस चार्ज ले सकते हैं या सब्सक्रिप्शन की डिमांड भी कर सकते हैं।

फ्री ट्रायल सर्विस देने पर आपको यह फायदा होगा कि मार्केट से आपके प्रोडक्ट के बारे में फीडबैक आसानी से मिल जाएगा। जो आपके प्रोडक्ट की क्वालिटी को इंप्रूव करने में हेल्प करेगा। टेक्नोलॉजी पर बढ़ती हमारी डिपेंडेंसी इस बिजनेस को कभी स्लो होने नहीं देगी। आजकल हर छोटे-बड़े इस्टैब्लिशमेंट को सॉफ्टवेयर सलूशन की जरूरत पड़ती है। किसी छोटी ऑर्गेनाइजेशन का अटेंडेंस मेंटेनेंस सॉफ्टवेयर हो या फिर किसी का डेटाबेस मैनेजमेंट सॉफ्टवेयर सर्विसेज हमेशा डिमांड में रहेगी। 

Enjoyed the post! Leave a Reply...