News Reporter या journalist कैसे बने? पूरी जानकारी

  • Post author:
  • Post last modified:November 9, 2021

अक्सर लोगों को टीवी पर रिपोर्टिंग करते हुए देख कर एक न एक बार तो आपके दिमाग में भी आया होगा कि क्यों न न्यूज़ रिपोर्टर बने। अगर ऐसी आवाज आपके दिल से आई है तो हम आपसे सवाल करेंगे की क्या आपको challenges लेना पसंद है? क्या आप रिस्क उठाते हुए फैक्ट्स कलेक्ट करना पसंद करते हैं? क्या लोगों से बातें करना और उनकी ओपिनियन लेना आपको अच्छा लगता है?

अगर हां, तो आपके लिए न्यूज़ रिपोर्टर की जॉब एकदम अच्छी ऑप्शन रहेगी। क्योंकि एक न्यूज़ रिपोर्टर की जॉब कैसे होती है और वह कैसे काम करता है यह तो आप जानते ही हैं। उनकी जॉब लगती तो शानदार है लेकिन उसमें challenges और risks भी बहुत हुआ करते हैं। लेकिन जिनमे सच सामने लाने की धुन हो और किसी का कोई डर ना हो तो वह लोग ही बेहतरीन न्यूज़ रिपोर्टिंग कर सकते हैं। 

एक न्यूज़ रिपोर्टर का काम होता है न्यूज़ कलेक्ट करना और न्यूज़ चैनल या न्यूज़पेपर जहां वह काम करता हो वहां इंफॉर्मेशन सबमिट करना। यह इंफॉर्मेशन न्यूज़ एंकर के जरिए लोगों तक पहुंचाई जाती है। तो इस तरह न्यूज़ रिपोर्टर की लाइफ में एक्शन और थ्रिलर की कोई कमी नहीं होती है। अगर आप भी ऐसी जॉब का वेट कर रहे हैं इंतजार कर रहे हैं तो ये जानकारी आपके बड़ी काम आएगी। क्योकि आज हम आपको न्यूज़ रिपोर्टर बनने से जुड़ी सारी जरूरी जानकारियां देने वाले है।

एक न्यूज़ रिपोर्टर, रेडिओ, टेलीविजन, ऑनलाइन न्यूज साइट्स, प्रिंटेड न्यूज़पेपर और मैगजीन्स पर काम करते हैं। पब्लिक को अपडेटेड रखने के लिए करंट सिचुएशन का एनालिसिस डिलीवर करन उनकी responsibility होती है। एक न्यूज़ रिपोर्टर को न्यूज़पेपर कंपनियां या टीवी चैनल की बैकबोन कहा जा सकता है, क्योंकि सोसाइटी के बेटरमेंट के लिए उनकी परफॉर्मेंस बहुत मैटर करती है।

ऐसे में एक न्यूज़ रिपोर्टर की ड्यूटी और रिस्पांसिबिलिटी बनती है कि वह balanced और unbiased रहते हुए न्यूज़ रिपोर्टिंग करें। उसे सेंसेटिव इश्यूज पर गलत इंफॉर्मेशन फैलाने से बचना चाहिए। उसे अपने सोर्सेस और फैक्ट्स को अच्छी तरह वेरीफाई करने के बाद ही न्यूज़ को सच मानना चाहिए। उसे न्यूज़ डिलीवर करते समय अपनी लैंग्वेज का भी ध्यान रखना चाहिए।

इमोशनल और सेंसेशनल शब्दों का यूज करने से बचना चाहिए। क्योंकि एक रिपोर्टर की ड्यूटी जनता को इन्फॉर्म और एजुकेट करने की होती है और पब्लिक की तरफ से गवर्मेंट और अथॉरिटी से सवाल करना भी उनकी ड्यूटी होती है। तो ऐसे में न्यूज़ रिपोर्टर का सेंसिबल, एजुकेटेड और फेथफुल होना जरूरी होता है। 

Required Skills

अगर आप एक न्यूज़ रिपोर्टर बनना चाहते हैं तो आपकी GK बहुत अच्छी होनी चाहिए और आप हमेशा उसे अपग्रेड करना भी जरूरी समझते हो। आपमें न्यूज़ के लिए क्यूरियोसिटी होनी चाहिए, तभी आप किसी भी इवेंट के लिए इंफॉर्मेशन कलेक्ट करने के लिए तैयार रहेंगे। तभी आप दो की बजाय 10 फैक्ट्स कलेक्ट करने की कोशिश करेंगे। आपकी कम्युनिकेशन स्किल्स तो strong होनी ही चाहिए साथ ही आपकी राइटिंग स्किल्स भी strong होनी चाहिए।

ताकि आप इंफॉर्मेशन को ज्यादा बेहतर तरीके से एक्सप्रेस कर सके। आपकी एप्रोच पॉजिटिव होनी चाहिए ताकि आप हर इंफॉर्मेशन के पॉजिटिव एस्पेक्ट्स को देख सकें और पब्लिक को भी दिखा सके ना की नेगेटिव माहौल क्रिएट करके पब्लिक में डर पैदा करें। 

आपके नॉलेज, एक्सपीरियंस और ऑब्जरवेशन इतनी अच्छी होनी चाहिए कि आप fact और fiction के बीच के डिफरेंस को समझ सके और सिर्फ एक को ही सामने लाए। अपनी जॉब के लिए आप पैशनेट तो होने ही चाहिए क्योकि इस प्रोफेशन में बेस्ट वही साबित होता है जो सोसाइटी की हेल्प करना चाहता हो। ज्यादा से ज्यादा सही इंफॉर्मेशन पब्लिक तक पहुंचाना चाहता हो और खुलकर सच सामने लाता हो।

इसीलिए आपका पैशन, आपका कॉन्फिडेंस, आपका नेक इरादा और fearless attitude सब कुछ इस प्रोफेशन में चाहिए होगा। इस प्रोफेशन के नुकसान भी आप जानते ही होंगे क्योंकि यह एक स्टेबल जॉब ऑप्शन नहीं है। मतलब इसे रेगुलर 9 से 5 जॉब नहीं माना जा सकता। बल्कि इस जॉब में रिपोर्टर का हर दिन अलग हो सकता है।

क्योंकि यह जॉब टाइम और कमिटमेंट दोनों मांगती है। इसलिए आप को दिन और रात सोचे बिना ब्रेकिंग स्टोरी कवर करने के लिए कभी भी स्पॉट पर पहुंचना हो सकता है। आपको अनफेवरेबल कंडीशंस में भी काम करना पड़ सकता है। तो ऐसे में अगर आप इस प्रोफेशन के लिए एक्साइटिड और पैशनेट है, इसके सारे नुकसान को इग्नोर करके इसके प्रतिष्ठित करियर और प्रतिष्ठा को इंपॉर्टेंट देते हैं तो यह प्रोफेशन आपके लिए परफेक्ट रहेगा। 

Education and Experience 

अब आपको बताते हैं एक न्यूज़ रिपोर्टर बनने के लिए जरूरी एजुकेशन और एक्सपीरियंस के बारे में। पहले जहा न्यूज़ रिपोर्टर बनने के लिए किसी खास क्वालिफिकेशन की जरूरत नहीं हुआ करती थी। वही आज मीडिया वर्ल्ड में इतना ज्यादा कंपटीशन बढ़ गया है कि हर पोजीशन पर एजुकेटेड एंप्लाइज को ही प्रेफरेंस दी जाने लगी है।

इसलिए अगर आप चाहते हैं कि न्यूज़ रिपोर्टर के तौर पर आपको एक अच्छे मीडिया हाउस में जॉब मिल सके, तो आपको सबसे पहले 10+2 लेवल गुड परसेंटेज के साथ पास करना होगा। उसके बाद किसी अच्छे कॉलेज से journalism या mass communication में ग्रेजुएशन करना होगा। 

वैसे आप चाहे तो किसी भी फील्ड से ग्रेजुएट होने के बाद journalism या mass communication में पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स कर सकते हैं। अगर आप इसी सब्जेक्ट में ग्रेजुएट और पोस्ट ग्रेजुएट हो तो कहना ही क्या ! आपकी कमांड इस फील्ड पर ज्यादा बेहतर होगी और कॉम्पिटेटिव वर्ल्ड में यही तो चाहिए कि आपकी नॉलेज दूसरों से ज्यादा हो। पोस्ट ग्रेजुएट कोर्स करने वाले कैंडिडेट प्रेफरन्स भी मिल सकती है।

हालांकि ग्रेजुएशन के बाद इस फील्ड में एक्सपीरियंस रखने वाले कैंडिडेट बाजी मार सकते हैं। इसलिए आप पहले अपना फ्यूचर प्लान तैयार करें और फिर उसके अकॉर्डिंग ही आगे बढ़े। यानी आपके लिए पहले हायर एजुकेशन लेना इंपॉर्टेंट है या बेसिक एजुकेशन के बारिश पीरियंस लेना इंपॉर्टेंट है यह तय करें। 

ये कोर्स करने के बाद आप न्यूज़ पेपर, पब्लिशिंग हाउसेस, मैगजींस, एडवरटाइजिंग एजेंसीज, एजुकेशनल इंस्टीट्यूट, पब्लिकेशन पोर्टल वर्क कर सकते हैं। कोर्स कंप्लीट करने के बाद आपको इंटर्नशिप जरूर करनी चाहिए। ताकि इस प्रोफेशन के बारे में आपका एक्सपीरियंस बढ़ सके और आप कॉन्फिडेंट भी फील कर सके।

इसके बाद आपको मीडिया हाउसेस में जॉब के लिए अप्लाई करना चाहिए। वैसे ज्यादा अच्छा ऑप्शन तो यही होगा कि आप जिस न्यूज़ चैनल, मैगजीन या न्यूज़पेपर में जॉब करना चाहते हैं वहीं पर आप इंटर्नशिप के लिए अप्लाई करें। ताकि आपको वहां का वर्क पैटर्न सीखने का मौका भी मिल जाए और अगर आप एक इंटर्न साबित हो तो आपको वही से जॉब का ऑफर भी आ जाए। 

Best Colleges For Journalism and Mass Communication

इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ मास कम्युनिकेशन न्यू दिल्ली, सिंबोसिस इंस्टीट्यूट आफ मीडिया एंड मैनेजमेंट पुणे, जेवियर इंस्टीट्यूट आफ कम्युनिकेशन मुंबई, नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ़ मास कम्युनिकेशन एंड जर्नलिज्म अहमदाबाद, लेडी श्रीराम कॉलेज फॉर विमेन न्यू दिल्ली, इंस्टीट्यूट आफ जर्नलिज्म एंड न्यू मीडिया बेंगलुरु, डिपार्टमेंट ऑफ कम्युनिकेशन हैदराबाद, डिपार्टमेंट ऑफ मीडिया स्टडीज क्रिस्ट यूनिवर्सिटी, फिल्म एंड टेलिविजन इंस्टीट्यूट आफ इंडिया पुणे, और इंस्टिट्यूट ऑफ़ मास कम्युनिकेशन एंड मीडिया टेक्नोलॉजी पुणे

Salary and Packages 

एक न्यूज़ रिपोर्टर की सैलरी उसके मीडिया हाउस और उसकी एक्सपीरियंस और स्किल्स पर काफी निर्भर करेगी। शुरुआत में एक फ्रेशर के तौर पर आपको 15000 हर महीने मिले। लेकिन इस फील्ड में स्कोर बोहोत है, इसलिए अगर आप बेस्ट परफॉर्म करते रहेंगे तो आपको ना केवल शानदार सैलरी पैकेज मिलने लगेगा बल्कि इनकी भी कोई कमी नहीं रहेगी। 

Enjoyed the post! Leave a Reply...