दीपावली के दिन माता लक्ष्मी और गणेश जी की पूजा क्यों होती है?

  • Post author:
  • Post last modified:October 14, 2021

दीपावली का अर्थ क्या है?

दीपावली हम भारतीयों के लिए काफी ख़ुशी का त्यौहार होता है। दीपावली के दिन माता लक्ष्मी और गणेश जी की पूजा की जाती है।

हर तरफ रौशनी ही रौशनी होती है खुशिया ही खुशिया होती है। हर घर, हर मोहल्ला खुशियों से और रौशनी से जगमगा रहा होता है। लेकिन क्या आपको पता है की दीपावली का अर्थ क्या है?

नहीं तो हम बता देते है, दीपावली दो संस्कृत शब्दों का combination है जिसमे दिप का अर्थ दीपक या दिया और आवली का अर्थ रेखा या लाइन या श्रृंखला या माला होता है। जिसका अर्थ होता है दीपो की माला या दीपो की श्रृंखला। 

दीपावली या दिवाली क्यों मनाई जाती है? 

भारत देश में हजारो धर्मो के लोग रहते है और इसी वजह से भारत को साधु-संतो और त्यौहारों का देश माना जाता है। अगर देखा जाए तो पुरे साल में सबसे जोर-शोर से जो त्यौहार मनाया जाता है वो दीपावली ही होता है। 

लेकिन क्या आपको पता है की दीपावली क्यों मनाई जाती है? क्योंकि दीपावली के दिन ही माता लक्ष्मी और भगवान नारायण का विवाह हुआ था। लोग कहते है की दीपावली इसलिए मनाई जाती है क्योकि राम जी वनवास से लौट कर आए थे। लेकिन ऐसा नहीं है, राम जी ने दशहरे को रावण को मार दिए थे। दशहरे को अगर रावण को मार दिया था तो फिर दशहरे से 20 दिन बाद दीपावली होती है। 

Ramcharitmanas में लिखा है की जिस दिन रावण को राम जी ने मारा उसी दिन विभीषण का राज्यतिलक किया। क्योंकि वो दिन राम जी के 14 वे वर्ष का आखरी दिन था। उसी दिन अगर राम जी आयोध्या नहीं जाते तो भरत मर जाते। 

हम लोग निबंध लिखते है मैंने भी निबंध लिखा है की राम जी वनवास से आए इसलिए दीपावली मनाई गई। लेकिन नहीं दीपावली इसलिए मनाई जाती है क्योकि इस दिन लक्ष्मी माता का भगवान नारायण से विवाह हुआ था। 

आज भी दक्षिण भारत में आज भी माता लक्ष्मी और भगवान नारायण को साथ में रख कर ही दीपावली की पूजा होती है। 

दीपावली के दिन माता लक्ष्मी और गणेश जी की पूजा क्यों होती है?

हम लोग दीपावली के दिन माता लक्ष्मी और गणेश जी को साथ रख कर पूजा करते है। ऐसा क्यों? क्योकि गणेश जी बुद्धि के देवता है और लक्ष्मी जी धन की देवता है। तो जिसके पास बुद्धि होगी उसके पास लक्ष्मी ठहरेगी। मतलब बुद्धि गणेश जैसी होगी तो लक्ष्मी ठहरेगी और बुद्धि बिगड़ गई तो लक्ष्मी चली जाएगी। इसलिए गणेश जी और माता लक्ष्मी जी को साथ में बैठा कर पूजा की जाती है ताकि ये मैसेज लोगो तक पोहचे।  

FAQ’s

दीपावली का अर्थ क्या है?

दीपावली दो संस्कृत शब्दों का combination है जिसमे दिप का अर्थ दीपक या दिया और आवली का अर्थ रेखा या लाइन या श्रृंखला या माला होता है। जिसका अर्थ होता है दीपो की माला या दीपो की श्रृंखला। 

दीपावली या दिवाली क्यों मनाई जाती है? 

दीपावली इसलिए मनाई जाती है क्योकि इस दिन लक्ष्मी माता का भगवान नारायण से विवाह हुआ था। Ramcharitmanas में लिखा है की जिस दिन रावण को राम जी ने मारा उसी दिन विभीषण का राज्यतिलक किया। क्योंकि वो दिन राम जी के 14 वे वर्ष का आखरी दिन था। उसी दिन अगर राम जी आयोध्या नहीं जाते तो भरत मर जाते। 

दीपावली के दिन माता लक्ष्मी और गणेश जी की पूजा क्यों होती है?

क्योकि गणेश जी बुद्धि के देवता है और लक्ष्मी जी धन की देवता है। तो जिसके पास बुद्धि होगी उसके पास लक्ष्मी ठहरेगी। मतलब बुद्धि गणेश जैसी होगी तो लक्ष्मी ठहरेगी और बुद्धि बिगड़ गई तो लक्ष्मी चली जाएगी। इसलिए गणेश जी और माता लक्ष्मी जी को साथ में बैठा कर पूजा की जाती है ताकि ये मैसेज लोगो तक पोहचे।  

Enjoyed the post! Leave a Reply...