Difference Between Industry, Factory, and Company Hindi

  • Post author:
  • Post last modified:August 22, 2021

Business से रिलेटेड बोहोत से words हम अक्सर सुना करते हैं और यह words इतने कॉमन होते हैं कि इनके बीच का difference हम आसानी से समझ नहीं पाते और अक्सर कंफ्यूज बने रहते हैं।

वैसे ही कुछ words है Factory, Industry और Company इनके बिच क्या difference है ये हम आज समझने वाले है। इनके बिच का फ्यूजन दूर करने के लिए और आपको इन तीनों के बारे में clear और specific इंफॉर्मेशन देने के लिए हमने आज का ये आर्टिकल बनाया है।

तो चलिए देखते है की इनके बिच क्या difference होता है

Industry का मतलब क्या होता है?

Industry economic का ऐसा पर्टिकुलर सेक्टर होता है जो या तो Goods की Manufacturing में invlove होता है या फिर services प्रोवाइड कराता है। Economic ऐसी companies का एक ग्रुप है जो अपने प्राइमरी बिज़नेस activities में similar होती है। 

ऐसी ही कुछ Industries है, Chemical and Petrochemicals, Automobiles and Auto-components Construction and Engineering, Financial Services, Food and Beverages, Textiles Apparels and Accessories और Real Estate. तो आगे अब आपको बता दें कि एक Industry के 4 sectors होते हैं, 

  • Primary Sector – इस sector में Farming, Mining, Lodging शामिल होती है और इसमें Raw materials extraction और production involve होता है। 
  • Secondary Sector – इस sector की बात करें तो इसमें Factories आती है, जो primary industry से products को प्रोसेस करती है। 
  • Tertiary Sector – इसमें वो लोग शामिल होते हैं जो services प्रोवाइड करते हैं, जैसे Doctors, Lawyers, Teachers और बोहोत से service प्रोवाइडर। 
  • Quaternary Sector – इस sector की बात करें तो इसमें ऐसे लोग आते हैं जो Scientific Research और नई Technology की development में शामिल होते हैं। 

Factory का मतलब क्या होता है?

Factory को manufacturing plant या production plant भी कहा जाता है जो एक इंडस्ट्रियल साइट होती है। यह अक्सर एक complex होता है जिसमे बहुत सी buildings होती है, जिनमें मशीनरी लगी होती है और यहां workers product manufacture करते हैं और मशीन को ऑपरेट करते हैं। Factories modern इकोनामिक प्रोडक्शन का एक मेजर पार्ट है, क्योंकि पूरी दुनिया में products factories में ही क्रिएट और प्रोसेस किए जाते हैं। 

ये ऐसी building होती है जहां पर workers मशीन का यूज करके ऐसी चीजें बनाते हैं जिन्हे बेचा जा सकता है या लोगो में बाटा जा सकता है। बोहोत सी factories में मशीनों के जरिए ही पूरा काम किया जाता है। आज आजकल जो modern factories होती है उनमे बड़े-बड़े स्टोर रूम यानि वेयरहाउस होते हैं। जिनमें manufacturing रिलेटेड भारी-भरकम tools और equipment को रखा जाता है। 

Factories किसी और जगह के सामान की सप्लाई ले सकती है और उस raw material से नए प्रोडक्ट बना सकती है। हर industry के products Factory में ही तैयार होते हैं। ऐसी ही कुछ Factories है, Clothing and Textile, Electronics and Computers, Transportation, Food Production, और Metal Manufacturing.

Factories हमेशा से ही exist नहीं करती थी बल्कि Industrial Revolution के टाइम ये system शुरू किया गया। इस system के शुरू होने से पहले products तैयार करने का काम या तो घर पर किया जाता था कि छोटी सी workshop में। 

लेकिन factory system शुरू होने के बाद बहुत बड़े स्तर पर products को तैयार करने के लिए powerd मशीनरी, centralized workplace, upskilled workers और labor division का यूज किया गया। 

ये तो बात हो गई Factory और Industry की, लेकिन अगर Factory और Industry के difference को समझे तो, Factory एक ऐसी साइट या लोकेशन है जहां Business का Making Procedure होता है। जबकि Industry ऐसे business का कलेक्शन होता है जो same मेटीरियल या सर्विस प्रोवाइड कराते है। 

जैसे, Beauty Industry, Automobile Industry Factory ये सभी Industry का सिर्फ एक हिस्सा होती है, जबकि Industry का एरिया बहुत ही बड़ा होता है। Factory को मिलने वाला scope Industry से काफी कम होता है, Factories के जरिए economy में progress होती है और Industry economic progress के लिए factory का यूज करती है।

Industry उस country के लोगों के living standard को बेहतर बनाने में हेल्प भी करती है। Factory सिर्फ products के प्रोडक्शन से रिलेटेड होती है जबकि Industry Consern में production और services दोनों शामिल होते हैं। 

Company Kya Hai?

Company ऐसे individuals से बनी होती है जो कंपनी के aim और objectives को पूरा करने के लिए साथ में काम करते हैं। कंपनी बहुत तरह की हो सकती है जैसे, Corporation, Partnership, Association, Private Limited या Public Limited कंपनी। Company के different forms उसके रजिस्ट्रेशन और स्ट्रक्चर पर डिपेंड करती है। 

Law में company को एक individual माना जाता है जैसे Axis Bank, Infosys, Tata Steel, Tech Mahindra ये सभी companies के ही examples है। Company और Industry के बीच difference देखे तो कंपनी इंडस्ट्री का एक हिस्सा है यानी एक Industry में बहुत सारी कंपनियां शामिल होती है जो similar products और services की manufacturing में इन्वॉल्व होती है। 

Industry अपने आप में एक complete होती है और Industry हमेशा company से बड़ी होती है। जहां तक factory और company के बीच में डिफरेंस की बात है तो company individuals का एक association या collection है, जबकि factory ऐसी फैसिलिटी है जहां पर products बनाए जाते है और process किए जाते हैं। 

उम्मीद करते है आपको आपके सवाल के जवाब मिल गए होंगे। अगर आपका कोई सवाल है तो आप हमसे कमेंट कर पूछ सकते है। 

Enjoyed the post! Leave a Reply...