DataLife Engine क्या है? | What is DataLife Engine (DLE)?

  • Post author:
  • Post last modified:September 4, 2021

दोस्तों जब भी हम किसी वेबसाइट को बनाने की सोचते है तो सबसे पहले हम कई सारी रिसर्च करते है। कुछ लोग तो महीनो पहले से ही रिसर्च करना शुरू कर देते है। मैं भी कुछ ऐसे ही रिसर्च कर रहा था अपनी एक वेबसाइट को बनाने के लिए। तब मुझे एक वेबसाइट मिली जो की काफी ज्यादा फ़ास्ट थी। इतनी फ़ास्ट की सिर्फ टच करने भर की देर थी और वो पेज open हो जाता था। 

मैंने पहले कभी ऐसी कोई साइट देखी ही नहीं थी जो इतनी बड़ी होने के बावजूद इतनी तेजी से लोड होती हो। लेकिन मैं जैसे-जैसे रिसर्च करता गया मुझे ऐसी वेबसाइट मिलती चली गई। जब हम कुछ अलग देख लेते है तब हमारे जो रिएक्शन होते है, बस कुछ वैसे ही मेरे रिएक्शन थे उन वेबसाइट को देखने के बाद। 

दोस्तों वेबसाइट का फ़ास्ट लोड होना गूगल में रैंक करने के लिए काफी ज्यादा मददग़ार साबित होता है। मैंने जितनी भी वो वेबसाइट देखी वो सभी गूगल में रैंक कर रही थी। ऐसा भी नहीं था की वेबसाइट में जो कंटेंट है वो कम है, Content भी भर-भर के भरा हुआ था। 

अगर हम सोचे की कोई वेबसाइट बनानी है तो सबसे पहले हमारे दिमाग में 2 प्लेटफॉर्म आते है जो की है WordPress और Blogger। अब WordPress और Blogger  एक CMS (Content Management System) है। जो की Blogging के लिए बेस्ट प्लेटफॉर्म माने जाते है और ई कॉमर्स वेबसाइट भी इन पर बन जाती है। 

अगर आपको वेबसाइट की स्पीड बढ़ानी है तो बहुत से लोग कहेंगे की Hosting अच्छी लेलो या कुछ Plugin Install कर लो। लेकिन ऐसी भी कुछ वेबसाइट है जो ये सब किये बिना भी काफी ज्यादा स्पीड से लोड होती है जिसका फायदा उन्हें काफी मिलता है। 

ये वेबसाइट बनाई गई है DLE (DataLife Engine) के ऊपर। शायद आपने ये नाम पहले कभी सुना ही न हो, इसकी वजह है की ये टेक्नोलॉजी हमारे देश की है ही नहीं। शायद ही कोई होगा जो इसके बारे में जानता होगा तो इस्तेमाल करना दूर की बात है। 

DataLife Engine क्या है?

DataLife Engine यह एक मल्टी फंक्शन Content Management System (CMS) है। DataLife Engine खास उनके लिए बनाया गया है जिनके पॉवरफुल mass media ब्लॉग या वेबसाइट मौजूद है। इसकी वजह से ओनर्स को एक पावरफुल प्लेटफार्म मिलता है ताकि वह एक पावरफुल वेबसाइट को बना सके। इस प्रोजेक्ट की वजह से जो काफी बड़े बड़े प्रोजेक्ट होते है उनके सर्वर को आराम मिलता है क्योंकि DataLife Engine की टेक्नोलॉजी की वजह से यूजर कम resources इस्तेमाल करते है और इस प्रकार वेबसाइट की स्पीड काफी बढ़ जाती है। 

इसकी एडवांस AJAX टेक्नोलॉजी की वजह से सर्वर रिसोर्स कम इस्तेमाल जाते है और इस तरह अगर सर्वर पर काफी ज्यादा users भी आते है तो भी वेबसाइट अच्छे से परफॉर्म कर पाती है। DataLife Engine बिलकुल WordPress और Blogger की तरह एक Commercial Content Management System (CMS) है। जिसे बनाया गया है जर्मनी की एक कंपनी के द्वारा। इसको बनाने की शुरुआत हुई थी 2004 में और ये CutePHP सिस्टम पर बेस्ड है।

बिलकुल WordPress की तरह इस टेक्नोलॉजी को भी PHP और MySQL में ही बनाया गया है। लेकिन फिर भी DataLife Engine अपने आप में एक काफी एडवांस टेक्नोलॉजी है, जो की खास कर बनाई गई है फाइल शेयर के लिए। बिलकुल वैसे ही जैसे WordPress बनाया गया है Blogging के लिए। DataLife Engine जिसकी Main Language है Russian है, हालांकि ये English और Ukrainian भाषाओं में भी मौजूद है। 

अगर देखा जाए तो WordPress बिलकुल फ्री है लेकिन DataLife Engine फ्री नहीं है। इसके लिए अच्छे खासे पैसे खर्च करना पड़ते है और तो ये Open Source भी नहीं है। जितनी भी बड़ी-बड़ी न्यूज़, मीडिया कम्पनिया है उनमे से कई कम्पनिया इस टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करती है। हलाकि इस सॉफ्टवेयर को इंडिया में इस्तेमाल नहीं किया जाता।

हमारा न्यूज़ मीडिया काफी पुराना है और उनकी काफी सारी वेबसाइट है जो की पहले से ही किसी दूसरे प्लेटफॉर्म पर बनाई गई है। ये जो टेक्नोलॉजी है काफी पुरानी है लेकिन इसके बारे में ज्यादा लोगो को पता नहीं है। हो सकता है शायद इसलिए इस टेक्नोलॉजी के बारे में सिर्फ कुछ ही लोग जानते है। जैसा की हमने पहले भी कहा की ये टेक्नोलॉजी हमारे देश में इस्तेमाल नहीं की जाती।

DataLife Engine कौन कौनसे फीचर्स प्रोवाइड करता है?

  • DataLife Engine के Key Features
  • डाटा को स्टोर करने के लिए MySQL का इस्तेमाल करता है। 
  • डेटाबेस पर काफी कम लोड होता है। 
  • एडवांस AJAX टेक्नोलॉजी को इस्तेमाल करता है। 
  • आप यूजर फ्रेंडली URL को disable कर सकते है। 
  • आप काफी pages और आर्टिकल को लिख सकते है। 
  • Comments में automatically वर्ड्स को फ़िल्टर किया जाता है। 
  • आप जितनी चाहे उतनी nested categories को बना सकते है। 
  • हर category का अपना एक अलग template होता है। 
  • Comments में के ज्यादा बड़े शब्द को  automatically कट किया जाता है। 
  • आर्टिकल में भी आप सर्च कर सकते है। 
  • जो न्यूज़ आपने पढ़ी नहीं है ऐसी न्यूज़ को दिखाया जाता है। 
  • कोई एक आर्टिकल कितनी बार देखा गया है यह दर्शाता है। 
  • अगर आपको कोई आर्टिकल पसंद आता है तो आप उसे अपनी फेवरेट लिस्ट में जो सकते है। 
  • वेबसाइट में मौजूद फॉर्म के जरिए आप किसी यूजर को आप मैसेज भेज सकते है। 
  • पेजेज को gzip कम्प्रेशन मेथड को इस्तेमाल कर दिखाया जाता है। 
  • यूजर के पर्सनल मैसेज को सपोर्ट करता है। 
  • जो आर्टिकल सबसे ज्यादा पॉपुलर होते है उन्हें अलग ब्लॉक में दिखाया जाता है। 

Users क्या-क्या कर सकते है?

  • वेबसाइट पर रजिस्टर कर सकते है। 
  • कमैंट्स जोड़ सकते है। 
  • कमैंट्स को एडिट और डिलीट कर सकते है। 
  • कोई न्यूज़ को जोड़ सकते है और उसमे बदलाव भी कर सकते है। 
  • अपनी प्रोफाइल बना सकते है। 
  • पासवर्ड को रिकवर कर सकते है। 
  • वेबसाइट की स्किन को बदल सकते है। 
  • रजिस्टर किए यूजर को अलग और रजिस्टर नहीं करने वालों को अलग जानकारी दिखाई जाती है। 

दोस्तों उम्मीद करते है आपको आपके सवाल का जवाब मिल गया हो। 

Enjoyed the post! Leave a Reply...