Finance क्या है और Finance के कितने टाइप होते है?

  • Post author:
  • Post last modified:November 10, 2021

Finance क्या है?

Finance एक French शब्द है और इसका हिंदी में अर्थ वित्त या पूंजी होता है। Finance का सीधा संबंध Capital या Money से होता है। Finance एक ऐसी कॉन्सेप्ट है जो हमें बताती है कि हमें हमारा पैसा कब, कहां और कैसे Invest करना है, ताकि हमें उसका अच्छा return मिल सके।

इसे आसान भाषा में अगर कहे तो पैसे के प्रबंध या management को भी Finance कहा जा सकता है। 

जैसे मान लेते है हमें कोई बिज़नेस करना है या कोई काम करना है या हो सकता है कोई बोहोत बड़ी कंपनी खड़ी करनी है। जब कोई भी काम करना होता है तो हमें उस काम के लिए पैसो की जरुरत होती है और इस पैसे के लिए आप लोन लेना चाहते है या आपके पास पहले से है।

जब आपको पैसा मिल जाता है तो इस पैसे को कब, कहा और किस तरह से लगाना है ताकि भविष्य में हमें उसका रिटर्न मिल सके, उसे हम Finance कह सकते है। Finance को और भी अच्छे से समझने के लिए हमें इसके टाइप्स को समझना होगा, तो चलिए समझते है। 

Finance कितने प्रकार के होते है? (Types of Finance)

Finance मुख्या रूप से 3 प्रकार के होते है,

  1. Personal Finance (व्यक्तिगत वित्त)
  2. Corporate Finance (कंपनी वित्त)
  3. Public Finance (सार्वजनिक वित्त)

Personal Finance (व्यक्तिगत वित्त) क्या होता है?

दोस्तों पैसा जीवन में काफी मायने रखता है और हम दिन रात काम करते है ताकि हमारी और हमारे परिवार की जरूरतों को हम पूरा कर सके। हम जॉब करते है, साइड बिज़नेस करते है और फिर भी हमारी जरूरते पूरी न हो तो हम बैंक से लोन भी लेते है। ऐसे में हमें काफी कुछ देखना होता है जैसे, लोन के EMI, इन्शुरन्स, टैक्स और अगर कही इन्वेस्ट किया है तो उसे भी हमें देखना होता है। 

इन सभी चीजों को हमें व्यक्तिगत रूप से संभालना या मैनेज करना होता है और इसे हम Personal Finance कहते है। मतलब जब आप और आपकी फैमिली व्यक्तिगत रूप से किसी भी financial decisions को लेती है तो यह सब personal finance में आता है। 

हम हमारे जीवन में काफी प्लानिंग करते है, हर चीज को हम इस तरह से देखते है की क्या करने से हमें इसमें फायदा होगा या आगे चल कर भविष्य में हमें अच्छा रिटर्न मिलेगा। जैसे हम स्कूल की पढाई करते है, कॉलेज की पढाई करते है ताकि हमें एक अच्छी जॉब मिले और हम अपने परिवार और खुद की जरूरतों को पूरा कर सके।

कोई भी काम हो चाहे वो बच्चो के स्कूल की फीस का हो या चाहे बिज़नेस में इन्वेस्ट करने का हो, हर काम को हम काफी बारीकी से समझते है और तब कही कोई निर्णय लेते है। यह सब एक प्रकार का मैनेजमेंट ही तो होता है जिसे हम व्यक्तिगत रूप से करते है और इसी को personal finance कहते है। 

Corporate Finance (कंपनी वित्त) क्या है?

Personal Finance में हमने देखा की कोई व्यक्ति कैसे अपने निजी जरूरतों के हिसाब से अपने पैसों को अपने तरीके से मैनेज करता है। Corporate Finance में कोई कंपनी या कोई Organization अपने पैसों को अपने तरीके से मैनेज करती है। 

Corporate Finance में कोई कंपनी या कोई Organization सबसे पहले Financial Planning बनती है, पैसों को कही से Arrange करती है और फिर उस पैसों को सही तरीके से कही invest करती है। कंपनी अपने पैसों को सही जगह invest कर प्रोडक्ट को बनती है या services को प्रोवाइड करती है। यह सभी मैनेजमेंट कंपनी या organization के मेंबर्स मिलकर करते है, सभी निर्णय भी यह मेंबर्स ही लेते है। इस मैनेजमेंट को हम Corporate Finance कह सकते है। 

Public Finance (सार्वजनिक वित्त) क्या होता है?

Public Finance का सीधा संबंध सरकार से होता है। सरकार को भी अपने देश में काम करने के लिए और देश को चलाने लिए पैसो की जरुरत होती है। सरकार टैक्स कलेक्शन और दूसरे भी कई तरीको से इस पैसे को generate करती है और फिर किसी काम के लिए कोई बजट को बनाती है। इस बजट के जरिए सरकार अपने देश का विकास करती है और देश को चलाती है, इसे हम Public Finance कह सकते है। 

Public Finance को वित्त मंत्रालय या Finance Minister के द्वारा मैनेज किया जाता है और काफी ऐसी कंपनियां भी होती है जो Public Finance को मैनेज करने में सरकार की मदद करती है। 

ऊपर के तीनों टाइप जिनके कुछ कॉमन रोल होते है, अच्छी तरह से निवेश करना, अगर कोई loan ले रहे है तो वो कम दाम में कैसे मिले ये देखना, फंड्स को सही तरह इस्तेमाल करना और बैंकिंग। ये सभी फाइनेंस के ही प्रकार है लेकिन इनके intensions अलग-अलग होते है।

Finance Company क्या है?

Finance Company एक organization होती है जो प्राइवेट भी हो सकती है और गवर्नमेंट भी हो सकती है। ये कंपनियां किसी individual को या businesses को लोन देती है जैसे की कोई bank. लेकिन ये Finance कंपनियां नॉर्मल banking system की तरह काम नहीं करती। जैसे ये लोगो से cash नहीं लेती (deposit), लोगो के या businesses के saving या current account नहीं होते और चेक भी लिए नहीं जाते।

इनका prime motive होता है लोगो को loan देना और उससे अपना profit कामना। ये कंपनियां दिए हुए loans पर जो interest मिलता है उसी से ढेर सारा पैसा कमाती है जो इनके income का main जरिया होता है।

Top 15 Finance Companies

  1. Bajaj Finance Limited.
  2. Housing Development Finance Corporation Limited. (HDFC)
  3. L&T Infrastructure Finance Corporation Limited.
  4. LIC Housing Finance Limited.
  5. Mahindra Financial Services Limited.
  6. Muthoot Finance Limited.
  7. Tata Capital Financeial Services Limited.
  8. HDB Finance Services.
  9. Cholamandalam Finance.
  10. Aditya Birla Finance Limited.
  11. Rural Electrification Corporation Limited.
  12. Shriram Transport Finance Company Limited.
  13. Indian Railway Finance Corporation Limited.
  14. Shriram City Union Finance Limited.
  15. Kotak Mahindra Prime Limited.

Enjoyed the post! Leave a Reply...