CDN क्या है? CDN के फायदे क्या-क्या है? Cloudflare Free SSL In Hindi

  • Post author:
  • Post last modified:September 4, 2021

जब आप कोई वेबसाइट बनाते है तो आपको एक hosting account बनाना होता है. इस account में आपके वेबसाइट की सभी files को store कर रखा जाता है, ताकि जब भी इनकी जरुरत हो उन्हें access कर सके. Hosting कंपनियां इस डाटा को किसी एक computer पर store कर रखते है. यह computer किसी खास location पर होगा और आपकी वेबसाइट को visit करने वाला दुनिया में कही पर भी हो सकता है. 

जब भी कोई यूजर आपकी वेबसाइट को visit करता है तो आपके hosting सर्वर पर की files को उस सर्वर से लेकर यूजर तक का distance तय करना पड़ता है. ऐसे में अगर distance काफी ज्यादा रहा तो हो सकता है आपके visitor को वो files देरी से मिले. अगर files देरी से मिलेगी तो वेबसाइट slow load होगी और वेबसाइट slow load को गूगल पसंद नहीं करता है. 

ऐसे में आप लग रहा होगा की काश आपकी hosting के सर्वर पूरी दुनिया में हर जगह पर होते तो वेबसाइट की files को इतनी ज्यादा दूरी तय नहीं करनी पड़ती. CDN बिलकुल यही काम करते है. चलो देखते है CDN क्या होता है? Read Also: Google Page Experience Ranking Signal क्या है?

CDN क्या होता है?

CDN क्या है CDN के फायदे क्या-क्या है Cloudflare Free SSL In Hindi

CDN का long form “Content Delivery Network” होता है. CDN दुनिया भर में फैले हुए servers का एक नेटवर्क होता है जो आपकी वेबसाइट कि files को अपनी temporary memory यानि cache में save कर लेता है. CDN इन files को अपने सभी सर्वर पर भेज देता है और जब कोई यूजर आपके वेबसाइट को visit करता है तो CDN अपने cache में से उस यूजर के सबसे नजदीक के सर्वर से उसे आपके वेबसाइट की उन files को deliver कर देता है. 

ऐसे में इन files को ज्यादा travel करना नहीं पड़ता और कम distance होने की वजह से वह files काफी तेजी से उस यूजर तक पोहच जाती है. यह process आपकी वेबसाइट के स्पीड को काफी हद तक बढ़ा देती है. 

CDN इस्तेमाल करने के फायदे क्या-क्या है?

Hosting Server का load कम हो जाता है

अगर आप एक स्टार्टअप है और सस्ती वाली hosting को इस्तेमाल कर रहे है तो आपको comparatively अच्छा performance मिलेगा. अगर आप एक eCommerce वेबसाइट चला रहे है और यूजर के बेस पर पैसे दे रहे है तो आपको billing में फायदा मिलेगा. 

Hosting Server भी एक साधारण कंप्यूटर की तरह CPU और RAM पर चलते है. जब आपकी वेबसाइट किसी यूजर के device में लोड होती है तो उस टाइम आपके सर्वर का CPU और RAM load झेल रहे होते है. ऐसे में काफी ज्यादा यूजर एक साथ आपकी वेबसाइट पर आते है तो CPU और RAM पर काफी ज्यादा load आ जाएगा और आपकी वेबसाइट का सर्वर और साथ में आपकी वेबसाइट भी slow हो जाएगी. 

लेकिन अगर आप CDN इस्तेमाल करते है तो आपके यूजर को आपकी वेबसाइट की files सीधे CDN से मिलेगी और ऐसे में आपकी वेबसाइट के सर्वर का load काम होगा. Read Also: Snippet क्या है? और Featured Snippet क्या है?

वेबसाइट का downtime कम हो जाता है

जब आपके hosting server का लोड कम रहेगा तो आपका server ज्यादा request को अच्छे से handle कर पाएगा. Generally जब server पर ज्यादा लोड है जाता है तो server कुछ टाइम के लिए down हो जाता है. ऐसे में अगर आपके server पर लोड ज्यादा नहीं रहेगा तो server का और आपके वेबसाइट का downtime कम हो जाएगा.

वेबसाइट की security बढ़ जाती है

Hosting कंपनियां कई बार rates को कम करने के चक्कर में अच्छी security नहीं दे पाती. लेकिन CDN अच्छी security देते है, अगर कोई security issue आता भी है तो वह उसे real time में detect कर सकते है. 

User Experience अच्छा हो जाता है 

CDN आपके वेबसाइट से files को उठा तो लेते है लेकिन यूजर को उनके device के हिसाब से files को deliver करते है. CDN यूजर को वही files भेजते है जिनकी उन्हें जरुरत है, इससे आपकी वेबसाइट का performance बढ़ जाता है. 

Website SEO बढ़िया हो जाता है

Google साफ कहता है की वो website को रैंक देने के लिए उसकी speed को भी importance देने लगा है। खुद हमने भी इस चीज को experience किया है, CDN इस्तेमाल करने से पहले site लोड होने में थोड़ा टाइम लेती थी। लेकिन CDN इस्तेमाल करने के बाद website की speed में अच्छी improvement देखने को मिली है।

साथ ही site की Rank में भी काफी बदलाव देखने को मिल रहा है। Google भी इस बात को कहता है को अगर किसी साइट की speed अच्छी है तो उसे वो अच्छी rank देगा।

CDN काफी सस्ता है 

इतने सरे फायदे होने के बावजूद CDN काफी सस्ता होता है. Cloudflare आपको एक फ्री plan भी देता है और काफी features भी देता है. 

CDN किस Type की वेबसाइट के लिए फायदेमंद होता है?

CDN कोई जादू की तरह नहीं है की इसे लगा डाला तो वेबसाइट झिंगालाला. 

CDN सिर्फ सर्वर से files को cache में save करता है. ताकि सबसे नजदीकी सर्वर से यूजर को files deliver कर सके. लेकिन अगर आपके वेबसाइट के code में ही कोई error है जिसकी वजह से आपकी वेबसाइट slow हो रही है, तो वह CDN पर भी slow ही रहेगी. अगर आपके साइट की CSS, HTML और JavaScript files minified नहीं है तो वह CDN पर भी ऐसी कि ऐसी ही रहेगी. इसलिए सिर्फ यही सोच कर CDN को इस्तेमाल ना करे की एक यही चीज आपके साइट को fast कर देगी. Read Also: Passage Indexing क्या है?

CDN हर वेबसाइट के लिए जरूरी नहीं है

मतलब की अगर आपकी वेबसाइट किसी ऐसे बिज़नेस के लिए है जो किसी एक शहर में ही काम करता है और उसके visitor भी उसी शहर से है. अगर आपके hosting का सर्वर इंडिया में ही है तो आपको CDN से कुछ ज्यादा फायदा नहीं होगा. लेकिन अगर आपके hosting का सर्वर किसी दूर के देश में है तो आपको CDN से फायदा हो सकता है. 

Cloudflare के सर्वर इंडिया में कहां-कहां है?

Cloudflare के सर्वर इंडिया में Bangalore, Chennai, Hyderabad, Kolkata, Mumbai, Nagpur और New delhi में है. अगर आपका बिज़नेस इनमे से किसी एक शहर के नजदीक है और आपके hosting का सर्वर दूर है तो आपको CDN का फायदा जरूर मिलेगा. 

सबसे अच्छे CDN कौनसे है?

जो सबसे अच्छे CDN है वो है Cloudflare, Stackpath और Keycdn. इन सब के अपने-अपने फायदे है और इनको सेटअप करने के तरीके भी अलग-अलग है. लेकिन अगर आप free CDN को इस्तेमाल करना चाहते है तो Cloudflare आपके लिए best रहेगा. Cloudflare, performance, security और up-time के मामले में काफी अच्छा है. 

Cloudflare पर वेबसाइट कैसे Setup करे? Cloudfflare Free SSL in hindi

Step 1: Go to Cloudflare.com

Step 2: Create account on Cloudflare

Step 3: Click on add a site button

Step 4: Enter your website URL

Step 5: Select Plan

अगर आप free plan के साथ जाना चाहते है तो free plan को select करें

Step 6: Click on Confirm button

अब आपकी साइट Cloudflare पर सेटअप हो चुकी है, लेकिन कुछ और सेटअप आपको करने होंगे नहीं तो आपकी वेबसाइट open नहीं होगी या Cloudflare उसे access नहीं कर पाएगा. 

Step 7: निचे दिखाये इमेज के हिसाब से आपको आपके hosting के ip address को वहां डालना होगा.

अब आपको आपके domain के ip address को बदलना होगा. इसके लिए आपको यह steps follow करनी पड़ेगी. 

Domain के IP Address को Cloudflare के IP Address के साथ कैसे बदले?

Step 1: Go to GoDaddy account (अगर आपने कही और से domain लिया है तो वहां जाए)

Step 2: Click on my product

Step 3: Click on DNS

Step 4: पहले nameserver को हटा कर cloudflare के nameserver को यहाँ डाले

जो nameserver आपको cloudflare ने account open करते वक्त दिए है. कुछ ऐसे

Nameserver को बदलने के बाद आपको कुछ देर इंतजार करना होगा. कभी-कभी इस process को कुछ सेकंड लगते है और कभी यह 24 घंटे भी लेती है. तो आपको इंतजार करना होगा, तब तक आप कुछ settings को पूरा कर ले. नीचे दिखाई कुछ settings को आप पूरा कर लीजिए और बस आपका काम हो गया. Read Also: Software Architecture कैसे बने? Full Information In Hindi

Setting 1: Set SSL encryption mode on flexible.

Setting 2: Turn on Always use HTTPS.

Then click on Done Button.

आपको बता दे की nameservers को सही से active होने में ज्यादा से ज्यादा 24 घंटे लग सकते है. तो जब आपको आपके वेबसाइट पर SSL दिखाई देगा यानि आपकी साइट secure दिखने लगेगी तो समझ लेना आपके nameserver सही से active हो चुके है. 

अब आपको CDN का फायदा मिलना शुरू हो जाएगा और Cloudflare के जरिए आपको अच्छी security के साथ-साथ एक SSL Certificate भी मिलेगा वो भी बिलकुल free. 

Enjoyed the post! Leave a Reply...